दुमका। जिला के शिकारीपाड़ा प्रखंड के हैप्पी क्लब के अध्यक्ष विकाश कुमार भगत ने प्रखण्ड विकास पदाधिकारी को ज्ञापन सौंपा और अपनी बात रखा। उन्होने कहा कि मुख्यालय में पिछले 4 महीने से ग्रामीणों के आधार कार्ड नहीं बनने में पर परेशानी हो रही है। राज्य सरकार एवं केंद्र सरकार ने सभी योजनाओं पर आधार कार्ड को अनिवार्य कर दिया है। आधार कार्ड नहीं बनने से ग्रामीण को राशन कार्ड, उज्जवला योजना, वृद्धा पेंशन, विधवा पेंशन, सुकन्या योजना, विभिन्न योजनाओं के लाभ लेने से वंचित हो रहे हैं। साथ ही साथ आधार कार्ड नही होने से बैंक खाते नहीं खोल रहे हैं बच्चों का स्कूलों में एडमिशन नहीं हो पा रहा है। शिकारीपाड़ा प्रखंड में हजारों की संख्या आधार कार्ड बने भी हैं परन्तु उनमें त्रुटियों की भरमार है। अभी भी क्षेत्र की एक बड़ी आबादी आधार कार्ड से वंचित है। प्रतिदिन कई लोग आधार कार्ड बनाने प्रखंड मुख्यालय आते हैं और निराश होकर वापस चले जाते हैं। कई ग्रामीण जिला मुख्यालय तक का सफर तय कर आधार कार्ड बनाने जा रहे हैं इससे ग्रामीणों का धन और समय अधिक खर्च हो रहा है।

बताते चलें कि पूर्व में प्रज्ञा केंद्रों से में आधार कार्ड बनाने की सुविधा थी । सब लोगों का अपने पंचायत के आसपास ही आधार कार्ड बन जाता था परंतु इसके बाद प्रज्ञा केंद्रों से आधार सुविधा को हटा दिया गया और प्रखंड मुख्यालय, राष्ट्रीय कृत बैंको तथा जिला मुख्यालय में कुछ एक केंद्रों पर आधार बनाया गया है । देखा जाए तो पूरे दुमका की आबादी के अनुपात में पूरे जिले में कुछ एक केंद्र ही चल रहे हैं जिससे उस पर काफी ज्यादा दबाव है एवं लोगों को भी अपना काम छोड़कर तथा समय और धन नष्ट करके आधार के लिए मुख्यालयों का चक्कर काटना पड़ रहा है।