लोहरदगा । असंगठित कामगारों का निबंधन कराने में लोहरदगा जिला राज्यभर में 7वें स्थान पर पहुंच गया है। लोहरदगा जिले में 10 अक्टूबर को 339, 11 अक्टूबर को 355, 12 अक्टूबर को 904, 13 अक्टूबर को 1210, 14 अक्टूबर को 1245, 15 अक्टूबर को 1340, 16 अक्टूबर को 1128, 17 अक्टूबर को, 18 अक्टूबर को 1005, 19 अक्टूबर को 1221 और 20 अक्टूबर को 1654 असंगठित कामगारों का निबंधन किया गया। 20 अक्टूबर तक लोहरदगा जिले में अब तक 15296 असंगठित कामगारों का निबंधन हुआ है जो जिला को मिले कुल लक्ष्य 1,51,200 का 10 प्रतिशत है। उक्त जानकारी श्रम अधीक्षक धीरेंद्र महतो ने दी।

प्रज्ञा केंद्रों में निःशुल्क है निबंधन

असंठित क्षेत्र के कामगारों का निबंधन ई-श्रम पोर्टल के माध्यम से किया जाना है। इस हेतु प्रज्ञा केंद्रों में जाकर निःशुल्क निबंधन कराया जा सकता है। इसके अलावा अपने मोबाईल से भी ई-श्रम पोर्टल (www.eshram.gov.in) के माध्यम से निबंधन कराया जा सकता है। निबंधन के समय असंगठित कामगार का बैंक खाता, मोबाईल नंबर, आधार संख्या, नाॅमिनी का भी आधार संख्या आवश्यक है।

निबंधन के लिए अहर्ता

ईएसआइ, पीएफ का सदस्य ना हो। उम्र 16-59 वर्ष के बीच हो। असंठित क्षेत्र के श्रमिक हों। आयकर दाता नहीं हो।

निबंधन का लाभ

निबंधन पूरा होने पर लाभार्थियों को एक कार्ड दिया जायेगा जिसमें एक विशिष्ट पहचान संख्या अंकित होगा। असंगठित श्रमिकों को लाभ एनडीयूडब्ल्यू के तहत पंजीकृत श्रमिकों को पीएम सुरक्षा बीमा योजना एक वर्ष के लिए मुफ्त होगा। ई-श्रम कार्ड पूरे देशभर में मान्य है। आपदा की स्थिति में सहायता राशि सीधे डीबीटी के माध्यम से श्रमिकों के बैंक खाते में हस्तांतरित की जायेगी। झारखण्ड असंगठित कर्मकार मृत्यु/दुर्घटना सहायता योजनांतर्गत निबंधित लाभुक की सामान्य मृत्यु हो जाने पर आश्रित को 50 हजार रूपये या दुर्घटना में मृत्यु हो जाने पर एक लाख रूपये की सहायता राशि दी जायेगी। अंत्येष्टि सहायता योजनांतर्गत सामान्य मृत्यु (60 वर्ष की उम्र तक) में 15 हजार एवं कार्य के दौरान दुर्घटना में मृत्यु होने पर 25 हजार रूपये मृतक के आश्रित को सहायता राशि के रूप में दी जायेगी। चिकित्सा सहायता योजनांतर्गत निबंधित महिला असंठित कर्मकारों के प्रथम दो प्रसूतियों के लिए प्रति प्रसूती एकमुश्त 15 हजार रूपये का भुगतान किया जायेगा। असंठित कर्मकारों के बच्चों के लिए मुख्यमंत्री छात्रवृति योजनांतर्गत निबंधित असंठित कर्मकारों के लिए अधिकतम दो बच्चों के लिए छात्रवृति की राशि कक्षावार वार्षिक छात्रवृति के रूप में दी जायेगी

कौन हैं असंठित श्रमिक

छोटे और सीमांत किसान, खेतिहर मजदूर, भवन एवं अन्य सन्निर्माण श्रमिक, नाई, सब्जी और फल विक्रेता, घरेलू श्रमिक, स्व-नियोजन श्रमिक, ऑटो चालक, बढ़ई, मनरेगा मजदूर, आशा कार्यकर्ता, आंगनबाड़ी सेविका-सहायिका, जल सहिया, कृषि एवं पशुपालन में कार्यरत मजदूर, मध्याह्न भोजन की रसोईया, प्रवाही मजदूर, स्वयं सहायता समूह की महिलाएं, ईंट-भट्ठा मजदूर, स्ट्रीट वेंडर, प्रवासी कामगार, अन्य क्षेत्र में नियोजित असंठित श्रमिक।