चतरा । पत्थलगड्डा प्रखंड के अन्तर्गत मेराल पंचायत के ग्राम मेरमगड़ा के पुरनडिह टोला के ग्रामीण बुनियादी सुविधाओं से वंचित है वही मुख्यालय से करीब पांच किमी की दूरी पर है पुरण डिह टोला में यहां करीब एक सौ पचीस घर है यहां पर लगभग एक हजार लोग निवास करते हैं। इस टोले में आज भी मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध नहीं हैं। गांव की सड़कें कच्ची हैं जो पगडंडी के रास्ते से होकर अना जाना करते हैं वहीं सरकार की विकास योजनाओं के लाभ से यहां के लोग वंचित हैं।
जिला मुख्यालय से करीब पांच किमी की दूरी पर है रहने के बाद भी पुरन डीह टोला पर किसी भी स्थानीय जनप्रतिनिधि एवम् आला अधिकारियों का ध्यान नहीं है ग्रामीण रामावतार राम दांगी ने कहा कि इस गांव अभी तक किसी भी तरह का विकास नहीं हो सका है यहां के लोगों को स्वस्थ सबंधी समस्या है अगर गांव में कोई बीमार पड़ जाता हैं तो मुख्यालय ले जाने में परेशानियों का सामना करना पड़ता है जिससे कई मरीजों की जान चली गई ।बरसात के दिनों में नदी में बाढ़ आ जाने घरों में दुबक कर रह जाते हैं उन्होंने बताया कि एक सौ पची तीस घर है यहां की आबादी लगभग एक हजार हैं जब चुनाव नजदीक आ जाता है तो उमीदवार झूठा स्वसन दे कर चले जाते हैं ग्रामीणों बताया कि आज भी मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध नहीं हैं। गांव की सड़कें कच्ची हैं। सरकार की विकास योजनाओं के लाभ से यहां के लोग वंचित हैं। टोला में जाने का रास्ता है। अभी भी यहां कच्ची सड़क है। ग्रामीण बताते हैं कि सड़क पर जगह जगह बड़े बड़े गड्ढे हैं। शादी ब्याह में भी यहां छोटी गाड़ियां टोला तक नहीं आती हैं। इस ओर से भी टोले में पहुंचने का संकीर्ण रास्ता है। यहां के लोग मुख्य रुप से खेती व मजदूरी करके ही जीवन यापन करते हैं। पीएम आवास का लाभ कुछेक लोगों को ही मिला है तथा कुछ लोग पीएम आवास मिलने की प्रतिक्षा में हैं। पेयजल की व्यवस्था भी नहीं है ग्रामीणों ने बताया कि उनकी समस्याओं पर प्रशासनिक महकमा के साथ-साथ जनप्रतिनिधियों का तनिक भी ध्यान नहीं है। जिसका खामियाजा यहां के ग्रामीणों को भुगतना पड़ रहा है।