लोहरदगा l पूर्व केंद्रीय मंत्री शिक्षाविद आदिवासियों के मसीहा स्वर्गीय कार्तिक उरांव की 97 वीं जयंती लोहरदगा में हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। लोहरदगा सोबरन टोली में स्थित प्रतिमा स्थल पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया। पूर्व सांसद स्वर्गीय शिव प्रसाद साहू के द्वारा 1998 में कार्तिक उरांव का प्रतिमा का अनावरण किया गया था, तब से प्रत्येक वर्ष जयंती समारोह कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है। कार्यक्रम का प्रारंभ में सरना झंडा की पूजा की गई एवं सामूहिक प्रार्थना किया गया तत्पश्चात कार्तिक उरांव के प्रतिमा पर अतिथियों द्वारा माल्यार्पण किया गया। माल्यार्पण करने वालों में झारखंड प्रदेश कांग्रेस कमेटी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष, पूर्व विधायक सुखदेव भगत, राधा तिर्की, कलावती उरांव, मनीर उरांव, आलोक कुमार साहू ,विष्णु उरांव, बिरी उरांव, विजय उरांव, जगदीश भगत, कुणाल महेश उरांव सुकरू उरांव, सोमरा उरांव सहित काफी संख्या में लोग थे। पूर्व विधायक सुखदेव भगत ने कहा कि कार्तिक उरांव आदिवासियों के मसीहा थे। वे एक सफल राजनेता, अभियंता के साथ-साथ झारखंड आंदोलन के सूत्रधार के रूप में अग्रणी भूमिका निभायी उन्होंने आदिवासियों को अखिल भारतीय आदिवासी विकास परिषद के माध्यम से एकजुट कर राष्ट्र की मुख्यधारा में जोड़ने का काम किए थे। राष्ट्रीय विचारधारा के प्रति कार्तिक बाबू आम लोगों के हित के लिए बराबर संघर्ष करते रहे। कार्तिक उरांव का पूरा जीवन जनजातीय समाज की अपनी परंपरा और संस्कृति को बचाने एवं उसके उत्थान के लिए कार्य किए। हमें उनके आदर्शों को आत्मसात करने की आवश्यकता है। इससे पूर्व सुखदेव भगत अपने सहयोगियों के साथ ही हिरही तालाब के समीप स्थित कार्तिक उरांव के प्रतिमा स्थल पहुंचकर प्रतिमा पर माल्यार्पण उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित किए।