पार्टी हित में काम करें सुखेर भगत : आलोक साहू

लोहरदगा l जिला के कांग्रेसी नेता आलोक कुमार साहू ने सोमवार को लोहरदगा जिला कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष सुखेर भगत के द्वारा मेरे खिलाफ दिया गया बयान उल्टा चोर कोतवाल को डांटने वाला मुहावरा चरितार्थ करने वाला साथ ही साथ कांग्रेस ऑथरिटी को चैलेंज करने ,पार्टी को कमजोर करने एवं कांग्रेस जनों को दिग्भ्रमित करने वाला बयान है। सुखेर भगत ने आरोप लगाया कि मैं कांग्रेस पार्टी का सदस्य नहीं हूं तो उन्हें जानकारी का अभाव है मैं ऑफलाइन सदस्य बना हूं जिसका फार्म नंबर 866911 है तथा में डिजिटल सदस्य ही नहीं बना हूं बल्कि दिल्ली से डिजिटल सदस्य बनाने का भी मुझे ऑथरिटी मिला है और मैं डिजिटल सदस्य बना रहा हूं। आज ही कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल ने मैसेज भेजकर कांग्रेसका और डिजिटल सदस्य बनाने हेतु मुझे प्रोत्साहित किए हैं उसी प्रकार कल 28 मार्च को अखिल भारतीय डिजिटल मेंम्बरशिप के चेयरमैन प्रवीण चक्रवर्ती ने भी मैसेज भेज कर और सदस्य बनाने के लिए मुझे प्रोत्साहन किए हैं। कांग्रेस के सदस्य होने के बावजूद उसे कांग्रेस का सदस्य नहीं मानना यह आपका कांग्रेस ऑथरिटीको चैलेंज करना हुआ । मैं जन्मजात कांग्रेसी हूं और विगत लगभग 37 वर्षों से पार्टी में सक्रिय रूप से काम कर रहा हूं । जो व्यक्ति जुम्मा जुम्मा कांग्रेस पार्टी में आए हैं वह दूसरे को कांग्रेस पार्टी का पाठ पढ़ा रहे हैं। श्री साहू ने कहा कि इससे पहले भी सुखेर भगत ने कांग्रेस अध्यक्ष श्रीमती सोनिया गांधी के ऑथरिटी को चैलेंज कर 2014 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी के खिलाफ चुनाव लड़ा था तब उस समय प्रदेश कांग्रेस कार्यसमिति ने सुखेर भगत को कांग्रेस पार्टी से निष्कासित किया था। सुखेर भगत मुझसे प्रमाण मांग रहे हैं जबकि मैं आपसे प्रमाण मांग रहा हूं कि निष्कासित के बाद आप कांग्रेस का सदस्य कब बने उसका प्रमाण सार्वजनिक करें। 2019 के लोकसभा चुनाव के समय देश का हर कांग्रेस कार्यकर्ता राहुल गांधी को देश का प्रधानमंत्री बनाना चाहता था उस समय आप गुमला जिला विधानसभा के प्रभारी थे । राहुल गांधी ने सुखदेव भगत को लोहरदगा लोकसभा से कांग्रेस का प्रत्याशी बनाया था आपने पूरा चुनाव में एक दिन भी प्रभारी होने के बावजूद गुमला विधानसभा में काम नहीं कर पार्टी को कमजोर कर सुखदेव भगत को हराने का काम किया था ताकि राहुल गांधी प्रधानमंत्री नहीं बन सके। जानकारी के लिए मैं बता देता हूं कि 31 जनवरी को हम लोग दर्जनों लोगों के साथ कांग्रेस मुख्यालय रांची में झारखंड के प्रभारी महोदय के समय कांग्रेस में शामिल हुआ था। 2 फरवरी को सुखदेव भगत के स्वागत समारोह कार्यक्रम में कांग्रेस मुख्यालय राजेंद्र भवन में शामिल हुआ था। इस दौरान प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष से भी मिला था। 12 मार्च को पलामू में प्रमंडलीय स्तरीय संवाद कार्यक्रम सम्मेलन में भी प्रभारी जी के साथ कार्यक्रम में भाग लिया था। आप अभी कांग्रेस के कार्यवाहक जिलाध्यक्ष हैं। व्यक्तिगत खुन्नस निकालने के बजाय पार्टी में लोगों को ज्यादा से ज्यादा जोड़ने एवं पार्टी को मजबूत करने का कार्य करें।

Share this...
Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter

Leave a Comment

Your email address will not be published.