टाटीझरिया । प्रखंड अंतर्गत ग्राम मुरकी के पलटन टोंगरी में रक्षाबंधन कर वन बचाने का संकल्प ग्रामीणों के द्वारा लिया गया । यह रक्षाबंधन कार्यक्रम की शुरुआत उत्कर्मित मध्य विद्यालय मुरकी के प्रधान शिक्षक सुखदेव हजाम के द्वारा 2003 में किया गया । इस कार्यक्रम का नेतृत्व ग्राम के प्रबुद्ध करते हैं। रक्षाबंधन कार्यक्रम में ग्रामीणों का सहयोग सराहनीय है। आदिवासी बाहुल क्षेत्र में ढोल मांदर के साथ पारंपरिक तरीके से कार्यक्रम किया जाता है। कोविड-19 के गाइडलाइन के तहत कार्यक्रम किया गया। मंच संचालन करते हुए सुखदेव हजाम ने कहा इस जंगल में 200 से अधिक प्रजाति के पेड़ पौधे पाए जाते हैं। यह जंगल क्षेत्र के लोगों के लिए जीविकोपार्जन का साधन भी है, अनेक कंद मूल फल प्राप्त कर इसकी बिक्री करते हैं अतः उसका संरक्षण अति आवश्यक है। कार्यक्रम पूजन अर्चन के साथ शुरुआत की गई। पूजन अर्चन कार्यक्रम की शुरुआत गोमदी देवी के द्वारा किया जाता है। संजूल मुर्मू स्थानीय वैध का कार्य करते हैं ,वे बताते हैं कि अपने गांव एवं आसपास के लोगों का वह इलाज वन में पाए जाने वाले विभिन्न जड़ी बूटियों से करते हैं ,कठिन से कठिन बीमारियों का भी इलाज करते हैं, जंगली जानवर हमारे शत्रु नहीं मित्र हैं और यदा-कदा जब कभी मनुष्य द्वारा उन्हें छेडा जाता है तो वह आक्रमण करते हैं और क्षति पहुंचाते हैं। हमें वन एवं वन्यजीवों की संरक्षण करने की शपथ लेना चाहिए।