केरेडारी। सरकार ने इसी उम्मीद के साथ प्रधानमंत्री आवास योजना शुरू की थी कि 2022 तक प्रत्येक गरीब व पात्र व्यक्ति के रहने के लिए पक्का आशियाना हो, वहीं गरीब भी यहीं उम्मीद लगाए बैठें हैं कि उन्हें रहने के लिए सिर पर पक्की छत मिलेगीं। लेकिन सच तो यह हैं कि आज भी गरीब व पात्र व्यक्ति तो योजना का लाभ लेने के लिए सरकारी दफ्तरों के चक्कर काट रहे हैं वहीं अमीर, प्रभावशाली लोगों की बल्लें- बल्ले हो रहीं हैं,ब्लॉक कोडिनेटर् से मिलकर अपना अपना आवास प्लस योजना में रजिस्ट्रेशन करने और पैसा छुड़वाने में लगे हैं।सत्यता से जांज हुई तो ब्लॉक कोडिनेटर घेरे में आ सकते हैं।इस बाबत को लेकर पूछे जाने पर ब्लॉक कोडिनेटर् पंचायत सचिव पर आरोप लगा रहे,हलाकि यह मामला जांज का विषय बन गया है गरीबो की आवास नही बनने से गरीब परिवार में काफ़ी दुख है।दुशरा मामला यह भी है की केरेडारी प्रखंड भर में चार सौ से अधिक गरीब परिवारों को जॉब कार्ड त्रुटि की वजह आवास नहीं बन पा रहा है।कार्यालय में आवास प्लस योजना को लेकर गरीब परिवार प्रत्येक दिन ब्लॉक का चक्कर काट रहे हैं।गरीब परिवारों को कहना है कि पीएम आवास की सूची में तो नाम है, पर ब्लॉक कोडिनेटर द्वारा जॉब कार्ड की त्रुटि बताया जा रहा है,आवास योजना में जॉब कार्ड की त्रुटि जल्द सुधरे जिसको लेकर गरीब परिवार प्रत्येक दिन प्रखंड कार्यालय का चक्कर काट रहे हैं, और नही सुधारने की सुनते ही,मुहँ लटकाए घर वापस जा रहे हैं।इस बाबत को लेकर केरेडारी प्रखंड कोडिनेर बिकास कुमार से पूछे जाने पर बताया कि जॉब कॉर्ड त्रुटि का मामला सही है ,केरेडारी प्रखंड के सोलह पँचयतों में लगभग 400 सौ घर से अधिक लाभुकों को जॉब कार्ड त्रुटि सामने आया है,जिसको लेकर हम 4 बार जिला को चिट्ठी भेज दिए हैं,इस मामले में वरीय अधिकारियों द्वारा कब संज्ञान लिया,जायेगा इसकी जनकारी मुझे नही है,जॉब कार्ड शुद्धीकरण का ऑप्शन खुलते ही,आवास प्लस योजना में गड़बड़ी जॉब कार्ड की सुधारा जाएगा,तभी गरीब परिवारों को आवास प्लस योजना का लाभ ले सकेगें,बताते चलें कि जॉब कार्ड त्रुटि की वजह से अत्यंत गरीब परिवार आवास प्लस योजना के लाभ लेने से दूर होते दिखाई दे रहे हैं,कई ऐसे परिवार हैं जिनका आवास प्लस बनता तो रहने का आशियाना होता अब उस पर भी विश्वास हटता जा रहा है।ब्लॉक कोडिनेर द्वारा प्रत्येक दिन गरीब परिवारों को सांत्वना दिया जा रहा है,की एक-दो दिन में जॉब कार्ड शुद्धीकरण की जाएगी,आखिरी शुद्धीकरण पर गरीब परिवारों को विश्वास टिका हुआ है