हजारीबाग । किसान क्रेडिट कार्ड को लेकर सभी बैंक प्रतिनिधियों के साथ उपायुक्त आदित्य कुमार आनंद ने समाहरणालय सभाकक्ष में समीक्षा बैठक की| उन्होंनें कहा कि सभी प्रखंडों में केसीसी ऋण स्वीकृति को लेकर विभिन्न बैंक शाखाओं में शिविर लगाकर किसानों के केसीसी ऋण स्वीकृति के कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं| उपायुक्त ने विभिन्न बैंकों के द्वारा चलाए जा रहे शिविर में अब तक की प्रगति की समीक्षा की,उन्होंने कहा कि बैंक केसीसी को लेकर अब भी सुस्त रवैया अपना रही है तथा आशानुरूप अब भी इस संबंध में प्रगति नहीं हो पाई है| उन्होंने बैंक प्रतिनिधियों को बार-बार रिमाइंडर देने के बावजूद केसीसी ऋण स्वीकृति के गति में वृद्धि नहीं हो पाना खेतजनक बताया| अपेक्षाकृत कम कृषि ऋण स्वीकृति पर उपायुक्त ने सभी बैंकों से निरस्त किए गए आवेदनों की कारणों की लिखित सूची मांगी| मौके पर बैंकों द्वारा किसानों के दो अकाउंट होना प्रोसेस में बाधक बताया,इस पर उपायुक्त ने किसानों को एक ही अकाउंट रखने की सलाह दी| साथ ही मौके पर जमीन रसीद के सत्यापन पर इस कार्य को ब्लॉक के कर्मचारी द्वारा कराने की बात कही| उन्होंने अकारण या बिना किसी ठोस रीजन के आवेदन निरस्त नहीं करने की बात कही| साथ ही उन्होंने कहा कि कृषकों का पीएम किसान में पंजीकृत ना होना अस्वीकृति का कारण नहीं बने| उन्होंने बैंकों में आए आवेदनों को नियमित जांच करने का निर्देश कृषि पदाधिकारी को दिया|