लोहरदगा l दीपावली के मौके पर गुरुवार को लोहरदगा शहरी क्षेत्र से लेकर गांव-गांव के घर-आंगन में दीया की रौशनी से जगमगा गया। कोरोना संक्रमण के खतरों के बीच लोगों ने दीपावली के त्योहार का पूरा आनंद लिया। घरों, मंदिरों, प्रतिष्ठानों और पूजा-पंडालों में धन-वैभव की प्रार्थना को लेकर लक्ष्मी-गणेश की पूजा हुई। प्रकाश पर्व दीपावली पर उल्लास छाया रहा। सतरंगी छटा बिखरी रही। विभिन्न प्रतिष्ठानों व घरों में भगवान गणेश व मां लक्ष्मी की पूजा कर भक्तों ने धन-वैभव की प्रार्थना की। दीपावली पर्व को लेकर शहरी क्षेत्र से लेकर ग्रामीण अंचलों में खुशियां छाई रही। हालांकि आतिशबाजी में प्रशासनिक निर्देश का अनुपालन नहीं हुआ। सरकार के निर्देश के विपरित रात भर पटाखों की आवाज आती रही। प्रशासन ने रात 8-10 बजे तक आतिशबाजी का समय निर्धारित किया था। इसका साफ तौर पर उल्लंघन हुआ। महत्वपूर्ण बात यह रही कि इस बार विगत वर्ष की अपेक्षा कम लोगों ने आतिशबाजी की। सुख-शांति, समृद्धि और दीपों का त्योहार दीपावली हर्षोल्लास के वातावरण में प्रेम व सौहार्द के साथ धूमधाम से मना। पूजा-अर्चना कर दीप जलाकर घरों को रौशन करने के बाद आतिशबाजी कर दीपावली का त्योहार मनाया। दीपावली पर्व को लेकर लोगों ने अपने-अपने घरों और प्रतिष्ठानों को लाइटिग और फूल माला से सजाया था। दीपावली की रौशनी के सौंदर्य से घर-संसार जगमगाता रहा। शहर से लेकर गांव के हर गली-मुहल्ला रौशन हो गए। आतिशबाजी का दौर, एक-दूसरे को शुभकामनाएं देने की होड़, मिठाई खिलाकर त्योहार की खुशियां बांटने की ललक ने दीपावली को और भी रौशन कर दिया। सुख-समृद्धि की कामना के साथ जिलेवासियों ने दीपावली का त्योहार मनाया। शहर से लेकर ग्रामीण क्षेत्र के लोगों ने मां लक्ष्मी, भगवान गणेश, कुबेर की पूजा-अर्चना अपने-अपने घरों और प्रतिष्ठानों के साथ-साथ पूजा पंडाल में भी भक्ति भाव से की। दीपावली के मौके पर सुख-समृद्धि की कामना के साथ लोग भगवान की आराधना में जुटे रहे।