हजारीबाग । रिलीफ़ सचिव डॉक्टर सुरेश ने बताया कि आनंद मार्ग यूनिवर्सल रिलीफ टीम कारोना लगातार इन बच्चो के बीच आकर उन्हें मदत करती रहती है और उन्हें मुफ्त शिक्षा भी दिया करती हैं। उन्होंने आगे बताया कि देश के स्वर्णिम विकास में बच्चे की अहम भागीदारी है। इसके लिए बच्चों को शिक्षित और अनुशासित होना जरूरी है।

कार्यक्रम संचालक भीष्म ने बताया कि यह वर्ष गुरु गुरु श्री श्री आनंदमूर्ति का जन्म शताब्दी वर्ष है और इसी उपलक्ष में हजारीबाग और विश्व के सारे आनंद मार्गी गुरु के आदर्श को समाज मैं हर लोगों को बताना चाहती है ताकि सभी का सर्वात्मक कल्याण हो। उन्होंने आगे बताया कि बच्चे राष्ट्र की बहुमूल्य सम्पत्ति होने के साथ ही भविष्य और कल की उम्मीद हैं, इसलिए उन्हें उचित देखरेख और प्यार मिलना चाहिए। 

ईरोज सचिव देवकी दादा ने बताया कि व्यक्ति की निस्वार्थ भावना से सेवा ही सच्ची नारायण सेवा मानी जाती है। बच्चो को अपने जीवन में नैतिकता के साथ आगे बढ़ना होगा।