कटकमदाग। बानादाग साईडिंग समझौता होने के बाद ग्रामीण रैयतों को लाभ दिलाने के लिए कमिटी का गठन किया गया है। कमिटी के गठन के लिए शनिवार को बानादाग साईडिंग परिसर स्थित टीपी 10 परिसर में चार गांव के रैयतों ने बैठक किया था। बैठक में बांका, कटकमदाग, कुसुंभा और बानादाग के हजारों महिला-पुरूष शामिल हुए थे। बैठक की अध्यक्षता मुखिया उदय साव ने किया। सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया कि आगामी 16 नवंबर को उपायुक्त से बानादाग साईडिंग से प्रभावित रैयतों की वार्ता होगी। वार्ता के लिए उपायुक्त ने ग्राम सभा में सदस्यों का चयन कर लिखित विवरण कार्यालय में प्रेषित करने को कहा गया था, जिसके आलोक में बैठक कर कमिटी का चयन किया गया। सभी चार गांव में 5-5 रैयतों को चुना गया है। जबकि किसान बेरोजगार संघर्ष मोर्चा के बैनर तले मुख्य संरक्षक सह समाजसेवी मुन्ना सिंह, बड़कागांव विधायक अंबा प्रसाद, हजारीबाग के पूर्व सांसद भुवनेश्वर प्रसाद मेहता, प्रियंका कुमारी, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जयशंकर पाठक, कांग्रेस के कार्यकारी जिलाध्यक्ष अवेधश सिंह, दीपक कुमार गुप्ता शामिल होंगे। रैयतों में बानादाग से अजय कुमार, विकास कुमार, रूबी देवी, आदित्य कुमार, नरेश महतो, कटकमदाग से प्रमोद कुमार, मोहन राम, सुदेश कुमार, शांति देवी, राजू राम, बांका ग्राम से उदय कुमार साव, प्रकाश यादव, मुकेश प्रजापति, कृष्णा यादव, सुमित्रा देवी और कुसुंभा ग्राम से रंजीत यादव, अरूण यादव, उपेंद्र यादव, पवन तुरी, हरहरी देंवी शामिल होंगे। बानादाग साईडिंग के मुख्य संरक्षक सह समाजसेवी मुन्ना सिंह ने कहा कि बानादाग साईडिंग से प्रभावित ग्रामीण और रैयतों को सरकारी सुविधा के साथ कंपनी का लाभ मिलना चाहिए। उसके लिए मैं हमेशा ग्रामीण भाई बंधु और माता बहनों के साथ कदम से कदम मिलाकर चलने के लिए तैयार हूं। आगामी भविष्य में ग्रामीण युवक-युवतियों के हाथों में रोजगार हो, उन्हें कृषि करने के लिए आधुनिक उपकरण की व्यवस्था हो, जमीन का उचित मुआवजा के साथ स्थानीय लोगों के सहयोग से साईडिंग का संचालन किया जाये, इसके लिए सदा प्रयासरत रहूंगा।