साहिबगंज ( उधवा ) । देश में जारी कोरोना संकट के बीच टीकाकरण का कार्य भी तेजी से जारी है। जिसमे गांव-गांव तक सरकार की ओर वैक्सीन लगाया जा रहा है। जहाँ 45+ उम्र के लोग बढ़ चढ़कर वैक्सीन लेने पहुच रहे हैं। और बेझिझक वैक्सीन लगवा कर घर आ रहे हैं। लेकिन अभी भी ग्रामीण इलाकों में कोविड-19 का टिका लगाने में कुछ युवाओं को हिचकिचाहट होती हैं। कई प्रकार की मन में अजीबोगरीब व मजेदार अर्थहीन सवाल खड़े कर रहे हैं की वैक्सीन लेने के बाद जब शादी होगा तब बच्चे पैदा नही होगा! बच्चे पैदा करने वाली शुक्राणु सब मर जायेगा। इधर ढेरो युवाओं का कहना है कि ऐसा कुछ भी नहीं है। वैक्सीन लेने में कोई परेशानी नहीं होती हैं। हालांकि कोविड टिका संपूर्ण रूप से सुरक्षित है। इसी बीच उधवा के पत्रकार रबीउल आलम, अब्दुल वहाब तथा इरशाद आलम ने रविवार को कोविड-19 का पहला खुराक लिया। पत्रकार रबीउल आलम ने खास कर ग्रामीण क्षेत्र के लोगों से अपील किया कि अफवाहों पर ध्यान न दे, हर कोई अपने आप को टिका लगवाए। इधर युवा पत्रकार अब्दुल वहाब ने कहा कि मुझे टिका लेने में किसी प्रकार की दिक्कत नहीं हुआ! एएनएम सेमा खातून ने जिस तरह टिका लगाई थी कि मुझे पता ही नही चला कि कब मेरे हाथ में सुई लगाया। साथ ही अब्दुल वहाब ने कहा कि कोविड टिका एक हथियार के रूप में काम करेगा। इसलिए खासकर सभी ग्रामीण क्षेत्र के युवा, बुजुर्ग को टिका लगाने की सख्त जरूरत है।