हजारीबाग । छात्रों का एक प्रतिनिधिमंडल सदर विधायक मनीष जयसवाल से उनके विधायक कार्यालय सभागार में मिलकर जेपीएससी में हुए व्यापक कदाचार के खिलाफ मिलकर एक ज्ञापन सौंपा। जिसमें सातवीं से दसवीं जेपीएससी की प्रारंभिक परीक्षा के परीक्षाफल में त्रुटि व लोहरदगा जिले के एक केंद्र व मुख्यमंत्री के गृह जिले साहेबगंज के एक केंद्र में हुए कदाचार के विरुद्ध मुखरता से अपनी आवाज़ बुलंद करते हुए छात्रों ने इस मामले को विधायक मनीष जायसवाल के समक्ष रखा।
छात्रों द्वारा सौंपे गए ज्ञापन में कहा गया है कि आयोग अभी तक जेपीएससी का कटऑफ जारी नहीं किया है, अभी तक उन्होंने स्पष्ट नहीं किया है कि एससी, एसटी, इबीसी-1,इबीसी-2, इडब्लयूएस, जनरल और शारीरिक विकलांगता श्रेणी
के तालिका के अनुसार कितना कटऑफ मार्क्स गया है, साथ ही साथ कुल छात्र जो परीक्षा में बैठे थे उन्हें परीक्षा में आए अंक जानने का अधिकार है जो अभी तक आयोग जारी नहीं कर रही है । मौके पर सदर विधायक मनीष जायसवाल ने छात्रों की बातें बहुत आराम से सुनी व गंभीरतापूर्वक इस पर विचार करते हुए अपनी राय को रखा साथ ही छात्रों को आश्वस्त करते हुए कहा कि वह निश्चित ही आगामी शीतकालीन सत्र में इस मुद्दे को उठाएंगे और छात्रों के साथ अन्याय नहीं होने देंगे व सदैव छात्रों के हितों की रक्षा के लिए आगे आयेंगे। विधायक मनीष जायसवाल ने यह भी कहा कि वर्तमान झारखंड सरकार के कार्यों और कदाचार के चलते झारखंड राज्य के अनेक प्रतिभावान विद्यार्थियों का भविष्य अंधकारमय हो रहा है। उन्होंने राज्य सरकार और जेपीएससी अध्यक्ष से तत्काल परीक्षा में हुए कदाचार की जांच करते हुए इसे निरस्त करते हुए राज्य के प्रतिभावान युवाओं के हक की रक्षा करें ।