पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सरकार पर जमकर बरसे, कहा नकम है सरकार

पाकुड़ । भारतीय जनता पार्टी द्वारा आयोजित महेशपुर प्रखंड अंतर्गत शहर गांव के निकट भ्रष्टाचार के विरुद्ध दो दिवसीय धरना प्रदर्शन में भाग लेने आए भाजपा विधायक दल के नेता व पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी ने राज्य में चल रही हेमंत सरकार के विरुद्ध जमकर बरसा । उन्होंने कहा कि ऐसा प्रतीत होता है कि राज्य में नियम कानून व्यवस्था नाम की कोई चीज नहीं रह गई है। चारों ओर बस लूट खसोट बढ़ गई है । हेमंत सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि सरकार के कार्यकाल के 2 साल पूरे होने को है किंतु जनता से किया हुआ वादा कहीं पूरा होते नहीं दिखता है । सरकार की कथनी करनी में काफी अंतर दिखता है । राज्य में विशाल खनिज संपदा को लूटने का काम जोर-शोर से जारी है । कहीं कोई धरपकड़ नहीं है ।दक्षिणा दीजिए और काम कीजिए । बिना पैसा दिए एक भी काम संभव नहीं है। घूसखोरी पूरी चरम पर है । लूट अपहरण हत्या अब आम बात हो कर रह गई है ।पहले तो कहा सरकार के खजाने में पैसे ही नहीं है और जब केंद्र सरकार ने मदद की बात कही तो पीछे हट गए। सरकार को जमीनी हकीकत से काफी दूर है । श्री मरांडी ने कहा कि राज्य में घूसखोरी के साथ-साथ रंगदारी की भी घटना आम हो गई है ।आम से लेकर खास लोग तक परेशान है । उन्होंने कहा हमारी खनिज संपदा को लूटने से बचाना होगा । इससे सरकार की बड़ी राजस्व की हानि होती है ।उन्होंने साफ तौर पर कहा कि सरकार जनता से किया गया वादा को पूरा करने में असमर्थ रही है। राज्य में भ्रष्टाचार चरम पर है। श्री मरांडी ने साफ तौर पर कहा कि पूरे प्रदेश में शासन प्रशासन की व्यवस्था चौपट हो गई है। झारखंड सरकार राज्य को संभालने में नाकाम सिद्ध हो रही है। जनता सब देख और समझ रही है । निश्चित तौर पर आने वाला समय में सरकार को इसकी खामियाजा भुगतना पड़ेगा ।

तीन कृषि कानून को भारत सरकार द्वारा वापस लिए जाने के मुद्दे पर श्री मरांडी ने कहा कि देश के प्रधानमंत्री की जितनी तारीफ की जाए कम है।वे जन भावनाओं को समझते हैं ।इस कानून से को कोई खतरा नहीं था फिर भी कुछ किसान इतने बड़े देश के एक क्षेत्र में दूसरे के बहकावे में आकर आंदोलनरत थे। प्रधानमंत्री ने संवेदना दिखाते हुए तीन कानून को वापस लिया है जो काबिले तारीफ है ।