साहिबगंज। संसद में पारित किये गये तीन कृषि कानुनो की वापसी का केंद्र सरकार का निर्णय किसानो के आंदोलन के साथ साथ कांग्रेस के संघर्ष की जीत है। उक्त बातें बोरियो कांग्रेस के प्रखण्ड अध्यक्ष राजेश सिंह ने कही।राजेश सिंह ने कहा कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी शुरू से पारित काले कृषि कानुन को वापस लेने की मांग कर रही थी लेकिन केंद्र सरकार की हठधर्मिता के कारण ऐसा जो पहले होना चाहिए था नही हो पाया।राजेश सिंह ने कहा कि कांग्रेस पार्टी किसानो के हितो के लिए शुरू से सड़क से लेकर संसद तक संघर्ष करती रही है। उन्होने कहा कि केंद्र सरकार की हठधर्मिता के कारण बीते एक साल से देश के किसानो को गरमी,ठंड और बरसात के मौसम में भी अपने हक के लिए सड़क पर आंदोलन करना पड़ा।उन्होंने कहा कि देर ही सही लेकिन केंद्र की मोदी सरकार को अपने गलती पर पछतावा हुआ और आज खुद प्रधानमंत्री ने न केवल तीनो कृषि कानुन को वापस लेने की घोषणा की बल्कि देश के किसानो से माफी भी मांगा।श्री सिंह ने किसान कानून की वापसी के केंद्र सरकार के फैसले को झामुमो पार्टी और किसानो की जीत करार दिया।