साहिबगंज। तालझारी प्रखंड अंतर्गत बुधवार देर संध्या को थाना प्रभारी कैलाश कुमार द्वारा पकडिया पहाड़,टैबु बासको पहाड़,दरवास पहाड़,दुमकी पहाड़ के आदिवासी एवं पहाड़िया जनजाति समुदाय के लोगों को डायन प्रथा उन्मूलन को लेकर जागरूक किया गया। थाना प्रभारी कैलाश कुमार सभी पहाड़िया वह आदिम जनजाति के लोगों से कहा कि डायन प्रथा प्रतिषेध अधिनियम 2001 के तहत किसी महिला को ‘डायन’ के रूप में पहचान करने वाले तथा पहचान के प्रति अपने किसी भी कार्य, शब्द या रीति से कार्रवाई करने वाले को तीन महीने तक कारावास की सजा या 1000 रुपये जुर्माना अथवा दोनों से दंडित करने का प्रावधान है। साथ ही कहा कि सामाजिक कुरीति पर अंकुश लगाने के लिए बड़े पैमाने पर जागरूकता बेहद जरूरी है। ऐसी कुरीतियां ना केवल महिलाओं बल्कि समाज को भी नकारात्मक विचारधारा से ग्रसित करती हैं। इन कुरीतियों से महिलाओं को प्रताड़ित करना अपराध है। डायन बिसाही जैसी कुप्रथा के कारण आज समाज की गरीब तथा असहाय महिलाएं सबसे ज्यादा प्रभावित हो रही हैं।आमजनों से इस प्रकार की किसी भी घटना की जानकारी होने पर तुरंत पुलिस थाने से संपर्क करने की भी अपील की। थाना प्रभारी द्वारा जो भी कहा गया उसे स्थानीय पहाड़िया द्वारा अपने भाषा में सभी पहाड़िया समुदाय के लोगों को समझाया गया।