दुमका ( शिकारीपाड़ा ) । शिकारीपाड़ा के शिकारीपाड़ा महाविद्यालय शिकारीपाड़ा मे बुधवार को प्राचार्य सिकंदर प्रसाद की अध्यक्षता में विश्व एड्स दिवस मनाया गया।प्राचार्य महोदय ने कहा की विश्व एड्स दिवस 2021 विश्व में हर साल 1 दिसंबर को अंतर्राष्ट्रीय एड्स दिवस मनाया जाता है। एड्स यानी एक्वायर्ड इम्युनोडेफिशिएंसी सिंड्रोम और एचआईवी यानी मानव इम्युनोडेफिशिएंसी वायरस महामारी के खिलाफ लोगों को जागरूक करने के लिए 1 दिसंबर को वर्ल्ड एड्स दिवस मनाया जाता है। । वैश्विक स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करने के लिए विश्व एड्स दिवस मनाने की शुरुआत 1988 में की गई थी। पहली बार विश्व एड्स दिवस 1 दिसंबर 1988 को मनाया गया था।: एड्स एक पुरानी बीमारी है जो एचआईवी (ह्यूमन इम्युनोडेफिशिएंसी वायरस) वायरस के कारण होती है। एड्स का फुल फॉर्म एक्वायर्ड इम्यूनोडेफिशिएंसी सिंड्रोम है। रोग के कारण प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर हो जाती है और लोग संक्रमण और बीमारियों की चपेट में आ जाते हैं। एड्स के प्रति लोगों में जागरूकता बढ़ाने के लिए हर साल 1 दिसंबर को विश्व एड्स दिवस के रूप में मनाया जाता है। मोके पर बद्री नारायण भगत, रविसंकर गुप्ता ,अबुल कलाम आदि प्रोफेसर गण उपस्तित रहे।
तथा छात्रों में सूरज हिंदुस्तानी , आदित्य कुमार साह, दीपक पाल, सुभम सिंह, बिनोद कुमार मौजूद थे।