रांची। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद्, राँची महानगर द्वारा PG में आजादी के 75वां वर्षगाँठ में प्रवेश करने पर आयोजित ज्ञात-अज्ञात स्वतंत्रता सेनानी का अध्ययन कर्यक्रम पर कार्यशाला का आयोजन किया गया।इस कार्यशाला में राँची के हरेक महाविद्यालय एवं विश्वविद्यालय से छात्र-छात्रा एवं परिषद् के कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

इस कार्यशाला का संचालन कर रहे विभाग संयोजक अनिकेत सिंह ने बताया कि ये कार्यक्रम 12 दिसम्बर से 18 दिसम्बर तक चलने वाले है, जो कि महानगर के प्रत्येक नगर, तहसील और गांव स्तर तक जाएंगे। हम सभी स्वतंत्रता के 75 वें वर्ष में प्रवेश कर रहे हैं। लेकिन जिनकी वजह से हम आज अपने देश में खुले चैन की सांस ले पा रहे हैं। उन्हीं हुतात्माओं का नाम ही गुम है।उन सभी हुतात्माओं का खोजने का कार्य किया जायेगा।

मौके पर प्रदेश छात्रा सह प्रमुख रोमा तिर्की ने बताया कि हम उन सभी स्वतंत्रता सेनानियों के जन्म स्थानों पर जाकर सर्वेक्षण करेंगे एवम उनके परिवारजण को सम्मान भी करेंगे। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के शोध कार्य आयाम के अंतर्गत सभी छात्र -छात्राओं एवं कार्यकर्ताओ को प्रशिक्षण करना है एवं जो भी छात्र-छात्राओ एवं कार्यकर्ता इस अभियान मे लगेंगे उन्हें सर्टिफिकेट भी प्रदान किया जायेंगे।

वही वक्ता के अगले कर्म जिला संयोजक प्रेम प्रतीक केशरी ने कहा कि हमने सदैव आजादी के नायकों का गुणगान किया है, आजादी का संघर्ष बहुत बड़ा है तथा देश के बलदानियों की गिनती करना एक असंभव कार्य है, पर विद्यार्थी परिषद ने आजादी के गुमनाम नायकों को खोजने का तथा उनके विषय में साहित्य निर्माण के जिस पुनीत कार्य का संकल्प लिया है। इसका लाभ आने वाली युवा पीढ़ी को सबसे अधिक होगा इसके माध्यम से उनको सदैव आजादी के मूल का स्मरण रहेगाl

कार्यशाला में उपस्थित छात्र-छात्राओ एवं परिषद् कार्यकर्ताओ ने कहा कि हम सभी मिल उन सभी झारखंड के
हुतात्माओं की खोज करेंगे जिनका नाम गुम है।

वही मौके पर विभाग संयोजक अनिकेत सिंह, प्रदेश छात्रा सह प्रमुख रोमा तिर्की, जिला संयोजक प्रेम प्रतीक केशरी,महानगर सह मंत्री अंकित रंजन,महानगर कार्यालय मंत्री शशि कांत,रिपुंजय धर दुबे,रोहित शेखर, रितेश सिंह,राहुल साव,एवं सैकड़ो छात्र-छात्रा उपस्तित रहें।