किस आका के बदौलत पाकुड़ जिला प्रशासन और पुलिस प्रशासन मौन

पाकुड़ । ज़िलें के सुदूरवर्ती पहाड़ी क्षेत्र के सिमलोग ओo पीo थाना क्षेत्र होकर गैर कानूनी कोयला की बड़े बड़े ट्रक किन किन दबंग माफिया के संगरक्षण में अवैध ढूलाई का गैर कानूनी कार्य कों अंजाम दिया जा रहा लिट्टीपाड़ा और अमड़ापाड़ा थाना क्षेत्र के काल्पनिक गांव चिलगो के पास पहाड़ी के अंदर से काले कोयला अवैध खनन कर कोयला माफिया माला माल हो रहे है ।जिसका अंदाज़ा भी बड़े आसानी से लगाया जा सकता है । कुछ कोयला माफिया मन मे लड्डू फूटाकर इस मामले मे मैदा कों सहारा देकर अवैध कोयला का साम्राज्य कों बेहिसाब बेधड़क चला रहा है इस मामले की गहन तहकीकात से कुछ ऐसे नाम और सबूत सामने आये है जिनके बाद आप कह सकते है जो देखने मे लगते है साफ दिल और मानवता का प्रतिबिम्ब बो ही है सबसे बड़े माफिया बेसन के लड्डू जो मैदा का सहारा लेकर अपने कों अब तक सभी के नज़र से बचा कर रखे है और मन ही मन लड्डू कर रहा अपना तिजोरी कों फूल और उसने करदी बड़ी भूल पाकुड़ ज़िलें मे कोयला की तस्करी की खबरें बार बार प्रकाशित होने के बाबजूद कोयला के कारोबार के दबंग माफिया अपना चक्का इस कदर चला रहे है मानो की असली सरकार यह कोयला माफिया चला रहे है इनके पावर और दबंगता के आगे बड़े से बड़े अधिकारी और ज़िलें की रक्षा का भार लेने कों नामित पदाधिकारी भी बोना नज़र आते है पाकुड़ के अवैध कोयला का तार बहुत दूर तक फैला होने और उन सब तक कमीशन पहुंचने की बात सामने आयी है जिसे आप सभी बड़े सम्मान और इज़्ज़त देकर उनको आप अपना रक्षा और सुरक्षा का भार दे रखा है पर बो आपकी थाली मे ही छेद करने पर है इस प्रकार की अवैध कोयला का परिवहन मुख्य रास्ते से रात के अँधेरे मे किया जाना क्या गैर कानूनी और दंडनीय नहीं है आखिर रात मे ट्रक पार होती है और उसकी जांच केवल इस लिए नहीं होती की कोयला माफिया के हाथ बड़े लंबे है जो कही भी जा सकती है इनके ऊपर सरकार है और इस सरकार मे बालू से लेकर कोयला तक की तस्करी बहुत जोरदार रूप से जारी है