साहिबगंज।तालझारी कई प्राचीन धार्मिक पौराणिक स्थल है जो बरबस ही लोगों का ध्यान अपनी ओर खींच लेता है। इसमें से एक एफीफनी चर्च भी है।तालझारी मिशन रोड़ स्थित गिरजाघर यूरोपियन शैली में बनी है। जानकार बताते हैं कि वर्ष 1964 के आसपास जब हावड़ा दिल्ली रेल लाइन आ जा रहा था, काफी संख्या में इंग्लैंड फ्रांस से आए अंग्रेज रेलकर्मी बस गए थे। उसी समय तालझारी एफीफनी चर्च का निर्माण कराया गया था। वहीं क्रिसमस को लेकर तालझारी प्रखंड क्षेत्र में काफी उत्साह का माहौल है। क्रिसमस को लेकर चर्च को सजाया गया है। पादरी प्रदीप कुमार हांसदा ने बताया कि क्रिसमस को लेकर एपीफनी चर्च को रंग बिरंगी लाइट से सजाया गया है। प्रभु यीशु के जन्म दिवस के रूप में क्रिसमस मनाया जाता है। क्रिसमस को लेकर शनिवार को विशेष प्रार्थना सभा का आयोजन किया जाएगा। इसके पश्चात क्रिसमस मिलन समारोह होगा। क्रिसमस को लेकर बाजारों में काफी चहल-पहल रही दुकानों में तरह-तरह के केक सजे थे। वही क्रिसमस को देखते हुए जिला उपायुक्त के निर्देश पर तालझारी विकास पदाधिकारी द्वारा विधि व्यवस्था एवं शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए दंडाधिकारी की प्रतिनियुक्ति की गई है।तालझारी सी एन आई एफीफनी चर्च में कनिय अभियंता नेहाल आलम,करनपुरा आरसी चर्च में शुभ प्रभात,सकड़भंगा सी एन आई चर्च में रिजवान हुसैन एवं बड़ा दुर्गा पुर आर सी चर्च में अजीत कुमार ऊपर दिया गया है।