हजारीबाग । स्थानीय सरस्वती शिशु विद्या मंदिर, कुम्हारटोली में आजादी के अमृत महोत्सव पर मातृ – पितृ पूजन दिवस का आयोजन हुआ। कार्यक्रम में विद्यालय के भैया -बहनों ने अपने -अपने माता-पिता को भारतीय संस्कृति के अनुरूप तिलक लगाया पुष्पार्चन किया एवं माला पहनाकर उन्हें प्रणाम करके पूजा अर्चना की उसके बाद अपने -अपने माता-पिता का आशीर्वाद प्राप्त किया। । भैया बहनों ने प्रतिवर्ष 14 फरवरी को मातृ -पितृ दिवस के रूप में एवं 25 दिसंबर को तुलसी पूजन दिवस के रूप में मनाने का संकल्प भी लिया। मौके पर बतौर मुख्य अतिथि एस के सिन्हा ,जीएम ,एनटीपीसी , बकागांव, हजारीबाग ने अपने संबोधन में कहा आज का दिन बहुत ही पावन है। बच्चे अपने- अपने माता-पिता की पूजा कर रहे हैं। भारतीय संस्कृति में माता-पिता का सबसे ऊंचा स्थान है। भैया -बहन उनका आदर करें ,सम्मान करें, तभी आप तरक्की करेंगे एवं अपने लक्ष्य को प्राप्त करेंगे ।भैया- बहन आज का दिन तुलसी पूजन दिवस के रूप में भी मनाया जाता है। आप सभी घर में एक तुलसी का पौधा अपने आंगन में जरूर लगाएं। तुलसी में सभी देवताओं का वास होता है साथ ही साथ ऑक्सीजन भी बहुत देने वाला यह पौधा है। कार्यक्रम में सिन्हा ने भारत रत्न से विभूषित मदन मोहन मालवीय एवं अटल बिहारी अटल बिहारी बाजपेई के जन्मदिवस पर उनके छाया चित्र पर पुष्प अर्पित करके उन्हें श्रद्धांजलि दी। मौके पर बतौर विशिष्ट अतिथि श्री अजय तिवारी ,प्रदेश सचिव ,विद्या विकास समिति, झारखंड ने अपने उद्बोधन में कहा मातृ -पितृ दिवस पूजन के इस कार्यक्रम में बच्चों द्वारा अपने माता -पिता का सम्मान पूजन भारतीय संस्कृति का एक महत्वपूर्ण अंग है ।मातृ शक्ति से पूरे परिवार का कल्याण होता है। पूरे विश्व में भारत एक ऐसा देश है जहां माता-पिता को भगवान का रूप समझा जाता है ।भैया- बहन आप उनकी सेवा करें। आज्ञा का पालन करें तभी आप अपने लक्ष्य को प्राप्त करेंगे उनके आशीर्वाद से आप का कल्याण होगा। उन्होंने भैया- बहनों के माता-पिता से आग्रह किया कि आप अपने बच्चों को संस्कारी बनाएं उन्हें। अपनी अपने देश की सेवा करने को प्रेरित करें एवं आत्मज्ञान का बोध कराएं ।घर में अपने बच्चों के साथ भोजन करें। संध्या आरती करें। पहली रोटी गाय को दें एवं आखरी रोटी कुत्ता को खिलाएं ।माता -पिता के सतत प्रयास से बच्चे भरत के समान वीर बनेंगे। आपके द्वारा बच्चों में परिवार भाव को भरने से परिवार नहीं टूटेगा। मौके पर उन्होंने भारत रत्न से विभूषित मदन मोहन मालवीय एवं अटल बिहारी बाजपेई केक जन्मदिवस पर उन्हें सच्चा देशभक्त बताते हुए उनके छायाचित्र पर पुष्प चढ़ाकर उन्हें श्रद्धांजलि दी ।कार्यक्रम में अतिथियों को तुलसी का पौधा उपहार स्वरूप भेंट कर सम्मानित किया गया। कार्यक्रम में पूर्व छात्र डॉ विकास कुमार ,डॉ रंजन कुमार ,अविनाश कुमार ,आस्था कुमारी , शशांक कुमार एवं डॉक्टर महेश कुशवाहा ने अपने अपने माता-पिता का पूजन किया। उनके माता-पिता को विद्यालय के द्वारा अंग वस्त्र भेंट कर सम्मानित भी किया गया ।कार्यक्रम में हजारीबाग विभाग के विभाग निरीक्षक , ओम प्रकाश सिन्हा, सह विभाग निरीक्षक तुलसी प्रसाद ठाकुर ,प्रबंध कारिणी समिति के सचिव, प्रोफ़ेसर के के गुप्ता ,कोषाध्यक्ष ,प्रोफेसर अरुण कुमार मिश्रा ,सदस्य निकिता कुमारी , बद्री प्रजापति , एवं समस्त आचार्य बंधु- भगिनी एवं भैया- बहने उपस्थित थे।