हजारीबाग। हजारीबाग जिले सहित डीवीसी कमांड एरिया में बिजली के लिए जनता प्रतिदिन परेशान है। समय पर पानी नहीं मिलता तो कभी महीनों दिन बिजली में बड़े पैमाने पर कटौती की जाती है, तो राज्य सरकार अपने निजी कार्यों में व्यस्त है। उक्त बातें हजारीबाग के पूर्व सांसद भुवनेश्वर प्रसाद मेहता ने कहीं। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन और उनकी सरकार डीवीसी से जल्द समझौता करें। जनता बिजली के लिए त्रस्त है। हजारीबाग में 8 घंटे से भी कम बिजली उपभोग के लिए दिया जाता है, जिससे लोगों के कार्यालय के कार्य के साथ अन्य निजी कार्य भी पूरे दिन बाधित रहता है। उन्होंने कहा कि बिजली विभाग की ऐसी रवैया हैं कि पुराने जमाने में पीला बल्ब घरो में जलाया जाता था. एक बल्ब में 100 वाट बिजली की खपत होती थी, लेकिन आधुनिक जमाने में 9 और 3 वाट की बिजली जलाते है, फिर भी बिजली की खपत उतनी बता दी जाती है। उसके साथ ही पूर्व के पीला बल्ब के समान ही बिजली बिल विभाग से उपभोक्ताओं को दिया जाता है। मुख्यमंत्री और उनकी सरकार स्वयं डीवीसी से वार्ता करें, नहीं तो आगामी वर्ष में बिजली के लिए हजारीबाग जीएम कार्यालय का घेराव किया जायेगा। मौके चांद खान, निजाम अंसारी मौजूद थे।