साहिबगंज। तालझारी व राजमहल के ऐतिहासिक पर्यटक स्थल व धार्मिक स्थलों पर सैलानियों का आना बुधवार से शुरू हो गया है। दरअसल नव वर्ष के आगमन को लेकर बुधवार को प्रखंड के महाराजपुर के मोती झरना में पश्चिम बंगाल, बिहार व आसपास के क्षेत्रों के विभिन्न जगहों से पर्यटकों ने नववर्ष के आगमन पर लुफ्त उठाते हुए यहां के प्राकृतिक सुंदरता व भौगोलिक दृश्य को अपने कैमरे में कैद किया। जगहों-जगहों पर पर्यटकों को अपने मोबाइल से सेल्फी लेते देखा गया। मोती झरना सैलानियों के लिए आकर्षक का केंद्र है। नया साल व नया साल के एक दिन पूर्व स्थानीय लोगों तथा बंगाल और बिहार से यहां पर्यटक पिकनिक मनाने आते हैं। लोगों का कहना है कि पुराने साल की विदाई व नव वर्ष के आगमन पर यहां लोग पूजा अर्चना करने आते हैं। हरे भरे पहाड़ियों के बीच मोती जैसे झरना गिरते पानी का आनंद लेते हैं। मोती झरना में नववर्ष के दिन मेले जैसा भीड़ रहता है। वहीं बुधवार को गंगा ग्लोबल पब्लिक स्कूल बिहार पीरपैंती सावलापुर के बच्चों ने मोतीझरना का भ्रमण कर वन भोज का आनंद उठाया। गंगा ग्लोबल स्कूल के बच्चों ने बताया की वर्ग पांच से दस तक के करीब चार सौ छात्र छात्राएं एवं स्कूल के शिक्षकों के नेतृत्व में मोतीझरना का भ्रमण किया साथ ही वन भोज की। बच्चों के साथ शिक्षिका बिनीता मेम, चंद्रलेखा मेम,सचीन सर, हिमांशु सर आदि मौजूद थे।
पर्यटकों की सुरक्षा व्यवस्था को लेकर प्रशासन की ओर से मोती झरना में अब तक पुलिस बल नहीं दिया गया।समिति के सदस्य नित्यानंद मंडल ने बताया कि नया साल के आगमन में सिर्फ 2 दिन ही बाकी है लेकिन आने वाले पर्यटकों की सुरक्षा व्यवस्था को लेकर 25 दिसंबर से ही पुलिस बल की मांग की गई थी। परंतु अब तक पुलिस बल नहीं रहने से समिति के सदस्यों को थोड़ी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।
वही तालझारी थाना प्रभारी निरंजन कच्छप द्वारा बताया गया कि मोतीझरना या आसपास के इलाकों में प्रशासन की पैनी नजर बनाये हुए है अभी फिलहाल दिन में तीन टाइम गस्ती किया जा रहा है।लेकिन बहुत जल्द फोर्स की तैनाती कर दी जाएगी ताकि किसी भी सैलानी को परेशानी ना हो।