उधवा ( साहिबगंज ) । एक ओर जहां ठंड बढ़ने से लोगों का जीना मुश्किल हो गया तो वही दूसरी ओर घने कोहरे से लोगों की परेशानी और ज्यादा बढ़ गई।क्योंकि घने कोहरे से अपराधिक गतिविधियां ज्यादा होने की संभावनाएं है।कोहरे का फायदा उठाकर अपराधकर्मी चंद मिनटों में अपने मंसूबे पर कामयाब हो जाते है।ऐसे में प्रशासन को कोहरे के समय गस्ती दल तेज करने की जरूरत है।वही घने कोहरे एवं कंपकपाती ठंड से अधिकतर लोग अपने अपने घरों में दुबके रहे।सबसे ज्यादा गरीब असहाय लोगों ने ठंड महसूस किए क्योंकि कई पंचायतों में अभी तक गरीब,असहाय लोगों के बीच कंबल मुहैया नहीं कराया गया है।प्रशासन की ओर से जगह जगह अलाव की भी व्यवस्था नही देखी जा रही है।वही 10 बजे के बाद सूर्य के दस्तक देते ही लोगों ने राहत की सांस ली।जानकारी के अनुसार प्रखंड क्षेत्रों में बुधवार को घने कोहरे छा गए।जिससे उधवा प्रखंड क्षेत्र कोहरे के आगोश में रहा। जिसके चलते जनजीवन अस्त व्यस्त रहा। शीतलहर के कारण लोग दिनभर गरम कपड़ों में लिपटे रहे। ठण्डी हवाओं से लोगों ने ठिठुरन महसूस की। ठण्ड से बचने के लिए लोगों ने अलाव का सहारा लिया। चाय की दुकानों पर लोग समूह में चाय की चुस्की का लुत्फ लेते रहे। सूर्यदेव के दर्शन होने के बाद लोगों ने राहत की सांस ली। उधर, घने कोहरे के कारण वाहनों की रफ्तार धीमी रही।

घने कोहरे के चलते कुछ मीटर की दूरी पर कुछ भी नजर नहीं आ रहा था। इसके चलते सड़कों से गुजरने वाले वाहन लाइट जलाकर धीमी गति से आवागमन करते रहे। ठण्ड कोहरे के चलते लोग देर सुबह तक बिस्तर में घुसे रहे। ठण्ड से बचने के लिए लोगों ने गरम वस्त्रों का सहारा लिया। रोजाना कमीज टी शर्ट में मॉर्निंग वॉक करने वाले लोग गरम वस्त्रों में लिपटे सुबह भ्रमण करते नजर आए। कोहरे ठण्ड से बचने के लिए लोगों ने गरम पेय पदार्थ का सहारा लिया। इसके चलते चाय की दुकानों पर लोगों की भीड़ रही। लोग समूह में बैठकर चाय की चुस्की के साथ ही कोहरे ठण्ड की चर्चा करने में मशगूल रहे। इतना ही नहीं लोग अलाव जलाकर भी तापते रहे।