साहिबगंज। कोरोना की तीसरी लहर को देखते हुए माननीय ग्रामीण विकास मंत्री सह ज़िला प्रभारी मंत्री आलमगीर आलम की अध्यक्षता में जिले के वरीय पदाधिकारियों के साथ ज़िले की तैयारियों तथा व्यवस्थाओं से संबंधित समीक्षा बैठक आयोजित की गई।समाहरणालय स्थित सभागार में आयोजित हुई इस बैठक में ग्रामीण विकास मंत्रीआलमगीर आलम ने कोरोना की संभावित तीसरी लहर को देखते हुए जिले की तैयारियों एवं लोगों को संक्रमण से बचाव हेतु की गई व्यवस्थाओं की जानकारी ली।इस दौरान उपायुक्त रामनिवास यादव द्वारा बताया गया कि जिले में 80% लोगों को कोरोना के प्रथम डोज़ की वैक्सीन लगाई जा चुकी है।वही अब तक 502792 लोगों को रैट, ट्रुनेटएवं एवं आरटीपीसीआर के माध्यम से जांच की गई है।जबकि 01 जनवरी से 4 जनवरी तक 7094 लोगों के सैंपल की जांच की जा चुकी है।ज़िले में 200 नॉरमल ऑक्सीजन सपोर्टेड बेड उपलब्ध है।21 आईसीयू बेड उपलब्ध है जिनमें से 16 बेड पर वेंटीलेटर की सुविधा भी है।उन्होंने बताया कि जिले में ऑक्सीजन की की उपलब्धता के लिए 800 एलपीएम क्षमता का पीसीए प्लांट भी है।जिसमें सदर अस्पताल साहिबगंज में 700 एलपीएम क्षमता का ऑक्सीजन प्लांट तथा राजमहल अनुमंडल अस्पताल में 100 एलपीएम का पीसीए ऑक्सीजन प्लांट स्थापित किया गया है।ज़िले में 223 डी टाइप ऑक्सीजन सिलेंडर तथा बी टाइप के 338 ऑक्सीजन सिलेंडर उपलब्ध है।जबकि 10 ऑक्सीजन टैंक के अलावे कोविड मरीज़ों के लिए बिना ऑक्सीजन सप्लाई के 113 बेड भी उपलब्ध हैं।इस बीच उपायुक्त ने यह भी बताया कि जिले में पर्याप्त मात्रा में कोविड-19 सुमित मरीजों के लिए दवाएं उपलब्ध है तथा जिले में वायरोलॉजी लैब होने से प्रतिदिन 1000 लोगों का आरटीपीसीआर टेस्ट किया जा सकता है जिसकी क्षमता आगामी दिनों में बढ़ाई जाएगी।उपायुक्त ने बताया कि इसके अलावा जिले में वृहद पैमाने पर टेस्टिंग की जा रही है। उन्होंने कहा कि संभावित तीसरी लहर को देखते हुए जिला प्रशासन पूरी तरह से अलर्ट मोड में है एवं सभी व्यवस्थाओं को दुरुस्त करते हुए हर बारीकी पर नजर रखी गई है। चेक पोस्ट आदि में पुलिस बल के साथ साथ मोबिलाइजेशन टीम को भी तैनात कर यह सुनिश्चित किया जा रहा है कि सभी लोगों की टेस्टिंग हो
वहीं रेलवे स्टेशन, हाट बाजार,फेरी घाट,बस स्टैंड पर आवाजाही करने वाले यात्रियों की जांच भी सुनिश्चित कराई जा रही है।

ग्रामीण विकास मंत्री ने दिए कई आवश्यक निर्देश |

समीक्षा के दौरान ग्रामीण विकास मंत्री श्री आलम ने कहा कि जिला प्रशासन द्वारा पूर्व में संक्रमण से बचाव के लिए सराहनीय कार्य किया जाता रहा है तथा संभावित तीसरी लहर को देखते हुए जिला प्रशासन अलर्ट नजर आ रहा है। उन्होंने कहा जिले में सभी व्यवस्थाएं चौकस हैं परंतु जिले में और अधिक टेस्टिंग कराने की आवश्यकता है इसलिए टेस्टिंग कार्यों में वृद्धि करें एवं गांव-गांव तक पहुंच बनाकर सैंपल कलेक्शन एवं कोविड जांच की जाए।
इसी संबंध में माननीय मंत्री ने कहा कि जिले में प्रथम डोज़ के वैक्सीन में बेहतर कार्य किया है तथा अब दूसरे दोस्त की वैक्सीनेशन में प्रगति करने की बारी है।वहीं उन्होंने बॉर्डर इलाकों में खास निगरानी बरतने एवं आवाजाही करने वाले वाहनों की जांच करते हुए लोगों का सैंपल कलेक्ट करने का निर्देश दिया साथ ही गांव में सर्दी खांसी के मरीजों पर निगरानी रखते हुए उन्हें उनके घरों में ही आइसोलेट करने का निर्देश भी दिया।
ग्रामीण विकास मंत्री जिला प्रभारी मंत्री आलमगीर आलम ने कहा कि गांव में माइकिंग के माध्यम से लोगों को मास्क लगाने सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने तथा आवश्यकता अनुसार ही घर से बाहर निकलने के बारे में जागरूक करें। उन्होंने कहा कि किसी भी प्रकार की खेलो आदि के आयोजनों से बचने का के लिए लोगों को प्रेरित करें एवं हाट बाजार मैं अनाउंसमेंट आदि कराकर लोगों से कोविड व्यवहारों का अनुपालन करने का अनुरोध भी करें।मौके पर उन्होंने मीडिया के माध्यम से जिले वासियों से अपील करते हुए कहा है की संभावित तीसरी लहर से जिले को बचाने के लिए आप सभी का सहयोग अति आवश्यक है इसलिए आप सभी आवश्यकता पड़ने पर ही घर से बाहर निकले और कोविड व्यवहारों का अवश्य पालन करें।समीक्षा बैठक के दौरान ग्रामीण विकास मंत्री के अलावे उपायुक्त राम निवास यादव, उप विकास आयुक्त प्रभात कुमार बरदियार,वन प्रमंडल पदाधिकारी मनीष तिवारी, अनुमंडल पदाधिकारी साहिबगंज हेमंत सती, जिले के सभी वरीय पदाधिकारी गण, प्रिंट एवं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के प्रतिनिधि एवं अन्य उपस्थित थे।