पाकुड। मांझी परगना लहान्ती बैसी की अपात कालीन बैठक पाकुड मे आयोजन किया गया । इस बैठक मे दो प्रखंडों लिट्टीपाड़ा व हिरणपुर प्रखंड के सभी ग्राम प्रधानों ने भाग लिया गया।इस बैठक का मुख्य उद्धेश्य है कि उपायुक्त को ग्राम प्रधानों की गंभीर समास्यों से अवगत कराया जाए।मांझी परगाना लहांती बैसी पाकुड़ की ओर से डीसी को एक आवेदन देना था ।जिससे मांझी परगाना बैसी की ग्राम प्रधानों की समास्यों से उपायुक्त महोदय से रूबरू हो साके ।इसके लिए ग्राम प्रधानों ने उपायुक्त महोदय को पांच मिनट का समय मांग गया लेकिन उपायुक्त ने ग्राम प्रधानों को मिलने के लिए समय नहीं दिया गया ।2 बजे से लेकर 5:30 बजे इंतजार किया गया ।सभी मांझी परगाना लहांती की ग्राम प्रधान उदास होकर घर लौटे। इसका आगुवाई मांझी परगाना लहांती बैसी के अध्यक्ष -निर्मल टुडू
सलाहकार – छुतार किस्कु
मुन्शी बेसरा, बिनयलाल मराण्डी ,प्रधान मुर्मू,बेनजामिन मराण्डी,मिस्त्री मुर्मू, प्रेमचांद सोरेन,कालिदास किस्कु आदि कर रहे थे।मांझी परगाना लहांती बैसी के कार्यकर्ता बिनायलाल मरांडी ने बताया कि साल 2018 के अक्टुवर माह मे ग्राम प्रधानों ने हाईकोर्ट मे पीटीशन दाखिल किए थे।4 सितम्बर 2020 को चीप जस्टिस रवि रंजन व संजय कुमार द्विवेदी ने फैसला सुनाया कि प्रधानों को लागान रसीद दिया जाए।पर अब तक ग्राम प्रधानों को लागान रसीद नहीं दिया गया है।अगर लागान रसीद नही दिया जाएगा तो सभी ग्राम प्रधान अनिश्चचत कालीन धरना पर बैंठेंगे।आर-पार का लड़ाई लड़ेगे।