कोडरमा। उपायुक्त आदित्य रंजन के प्रयास से जिले के छात्र नौजवानो के बेहतर विकास के लिए शिक्षा, खेल व रोजगार के क्षेत्र में कई बड़े कार्य जैसे छात्रों के लिए निशुल्क कोचिंग ,कम्प्यूटर की शिक्षा, समाहरणालय परिसर में सौंदर्यीकरण व सुदृढ़ीकरण के साथ साथ झुमरीतिलैया गुमो में स्टेडियम,कोडरमा बाघीटांड में इनडोर स्टेडियम का कार्य किया जा रहा है। ताकि कोडरमा जिले को स्वच्छ, सुंदर व भ्रष्टाचार मुक्त जिला का निर्माण हो। लेकिन वही देखा जा रहा है कि कुछ संवेदकों के द्वारा उपायुक्त श्री रंजन के सपनो को साकार करने में रोड़ा साबित हो रहे हैं और भ्रष्टाचार का बढ़ावा के साथ विकास कार्यो में लूट की गंगा बहाने का कार्य किया जा रहा है। वही बता दें कि बाघीटांड स्टेडियम परिसर में निर्माणाधीन इनडोर स्टेडियम में संवेदक के द्वारा भारी अनियमितता बरती जा रही है, गुणवक्ता के नामपर खानापूर्ती किया जा रहा है। ज्ञात हो कि बागीताड़ स्टेडियम में दो करोड़ रुपए की लागत से इंडोर स्टेडियम का निर्माण कार्य कराया जा रहा है जिसमें संवेदक के द्वारा धड़ल्ले से बंगला ईट, तीन नम्बर चिमनी ईट, मिट्टी किस्म का बालू का प्रयोग किया जा रहा है, वहीं ईंट की जुड़ाई में सीमेंट का मात्रा कम बालू अधिक डाला जा रहा है, वहीं निर्माण कार्य के दौरान कनीय अभियंता की गैरहाज़िर रहना भी कई तरह का सवाल खड़ा कर रहा है। जबकि निर्माण कार्य स्थल पर साफ-साफ देखा जा सकता है कि एक तरफ बढ़िया तो एक तरफ घटिया किस्म का गिट्टी संवेदक के द्वारा गिराया गया है वही ईंट का भी वही हाल है दिखाने के लिए बढ़िया किस्म के ईंट तो वहीं निर्माण कार्य में घटिया किस्म का उपयोग किया जा रहा है, बालू का भी वही हाल है जहां मिट्टी का मात्रा अधिक है जिससे दीवार की जोड़ाई की जा रही है। वहीं जब उक्त मामले पर सहायक अभियंता रंजीत कुमार एवं कनीय अभियंता सत्येंद्र कुमार से पूछे जाने पर उनके द्वारा जानकारी दी गई की जो ढलाई का कार्य हुआ है उसमें गुणवत्तापूर्ण गिट्टी लगाई गई जहां तक घटिया किस्म की ईंट का सवाल है तो यह जांच का विषय है उन्होंने कहा जांच कर उचित कार्रवाई की जाएगी।