थम नहीं रही अरूप चटर्जी की मुश्किलें, अब बंगाल पुलिस भी पड़ी पीछे

धनबाद। झारखंड के एक निजी न्यूज चैनल के निदेशक अरूप चटर्जी की मुश्किल फिलहाल कम होती नजर नहीं आ रही है. धनबाद पुलिस के बाद अब बंगाल पुलिस अरूप के पीछे लग गई है. बंगाल के बारासात की अदालत ने अरूप चटर्जी के नाम का प्रोडक्शन वारंट मंडल कारा धनबाद को भेजा है. बंगाल की 24 परगना बागूहाटी थाने की पुलिस ने अरूप को पेश करने संबंधी वारंट प्राप्त कर धनबाद जेल पहुंची. अब बंगाल पुलिस भी अरूप चटर्जी को अपने साथ बंगाल ले जाएगी. बारासात कोर्ट ने धनबाद जेल प्रशासन को निर्देश दिया है कि 25 जुलाई तक अरूप को बारासात सीजेएम कोर्ट में पेश किया जाए.

 संभवतः आज गुरुवार को अब जेल प्रशासन धनबाद के अदालत से इस बात की अनुमति लेगा कि उसे बारासात कोर्ट में पेश करना है या नहीं. अदालत की अनुमति मिलने के बाद ही अरूप को 24 परगना बारासात मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी के समक्ष पेश किया जा सकेगा. अरूप चटर्जी को बुधवार को जिन दो विभिन्न मामलों में रिमांड पर लिया गया है उन मामले में अरूप की जमानत पर आज (गुरुवार) को सुनवाई होनी है.

इधर, अरूप को जमानत से संबंधित झारखंड हाईकोर्ट का आदेश भी बुधवार शाम 4: 30 बजे अवर न्यायाधीश राजीव त्रिपाठी की अदालत को पहुंच गया. अधिवक्ता शाहनवाज ने बताया कि इस मामले में भी आज  ही सीलबंद लिफाफा  दाखिल किया जाएगा.

इधर, विशेष सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, रामगढ़ पुलिस भी अरूप चटर्जी को महिला के साथ छेड़खानी के एक पुराने मामले में रिमांड कर सकती है. बताया जा रहा है कि रामगढ़ जिले के एक थाने में एक महिला नेत्री ने अरूप चटर्जी पर छेड़खानी का आरोप लगाते हुए मामला दर्ज कराया था. दूसरी ओर धनबाद पुलिस अरूप चटर्जी से जुड़े धनबाद एवं झारखंड राज्य समेत विभिन्न राज्यों में दर्ज एफआईआर खंगालने में जुटी हुई है. धनबाद पुलिस गोपनीय तरीके से एफआईआर खंगाला रही है. मीडिया तक को भनक न लगे, इसकी पूरी सावधानी बरती जा रही है.

Share this...
Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *