पशु तस्करों के निशाने पर पुलिसकर्मी

रांची। झारखंड में पशु तस्करों के निशाने पर इन दिनों पुलिसकर्मी है. हाल के कुछ दिनों में ऐसी घटनाएं हुई है, जिससे साफ तौर पर जाहिर होता है कि पशु तस्कर खुद को बचाने के लिए पुलिसकर्मी को गाड़ी से कुचलने की कोशिश कर रहे हैं. रांची में महिला दरोगा को पशु तस्करों ने कुचल कर हत्या कर दिया. इस तरह की यह पहली घटना नहीं है ऐसी कई घटनाएं सामने आ चुकी है.

तस्करों ने थानेदार को कुचलने का किया प्रयास

रांची में महिला एसआई को कुचलकर मारने की घटना के 8 दिन बाद ही बीते 29 जुलाई काे पशु तस्करों का दुस्साहस एक बार फिर देखने काे मिला. तस्करों ने सुबह 7 बजे गुमला जिले के बिशुनपुर थाना प्रभारी सदानंद सिंह और जवानाें को बोलेरो से कुचलने का प्रयास किया था, लेकिन पर वो बच गये थे. घटना के बाद थाना प्रभारी ने करीब 10 किमी तक तस्करों का पीछा किया. पुलिस काे देख तस्करों ने बाेलेराे की स्पीड बढ़ा दी, पर बोलेरो पलट गई. इसके बाद थानेदार व जवानों ने सात पशु तस्करों को धर दबाेचा.

पशु तस्करों ने पुलिसकर्मियों को गाड़ी से कुचलने का प्रयास किया

पुलिसकर्मियों को गाड़ी से पशु तस्करों ने कुचलने का प्रयास किया. इस घटना में पुलिसकर्मी बाल-बाल बच गए. यह घटना गुमला की रायडीह में बीते 21 जुलाई को हुई थी. पुलिस को सूचना मिली थी कि तस्करी ट्रक से गोवंशीय पशु को ले जा रहे हैं. शंख मोड़ माझाटोली में पुलिस टीम तैनात हो गई. एक मालवाहक ट्रक और बोलेरो को रोकने का प्रयास किया गया, रुकने के बजाय इन वाहनों ने पुलिसकर्मियों को रौंदने के प्रयास किया और आगे निकल गये. पुलिस टीम ने किसी तरह पीछे हटकर अपनी जान बचाई.

दारोगा की कुचलकर हत्या

पशु तस्करों ने बीते 19 जुलाई की देर रात करीब डेढ़ बजे रांची के तुपुदाना ओपी क्षेत्र अंतर्गत हुलहुंडू में चेकिंग कर रही महिला दारोगा संध्या टोपनो को पिकअप वैन से कुचल दिया. इसके बाद घसीटते हुए करीब सौ मीटर तक ले गया. सिर व सीने में चोट लगने के कारण संध्या की मौके पर ही मौत हो गई. उधर, घटना के बाद संध्या को रिम्स ले जाया गया, जहां चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया था. धक्का मारने के बाद पिकअप वैन का रिंग रोड (नगड़ी क्षेत्र) के पास चक्का ब्लास्ट कर गया और वह पलट गया. वाहन का पीछा कर रही पुलिस गाड़ी ने पिकअप वैन (JH 01EJ 7501) और उसके चालक निजार (सिकिदरी निवासी) को पकड़ा. लेकिन, वाहन में बैठा बाकी तस्कर भागने में सफल रहा था जिसे बाद में गिरफ्तार कर लिया गया था.

दो साल में 871 केस विभिन्न जिलों में दर्ज किए गए

बीते दो साल के आंकड़ों पर नजर डाले तो राज्य में पिछले 29 माह (जनवरी 2020 से मई 2022 तक) में मवेशी तस्करी के कुल 871 केस विभिन्न जिलों में दर्ज किए गए हैं. वहीं, 1643 तस्करों को गिरफ्तार किया गया है. रांची में जनवरी 2020 से मई 2022 तक मवेशी तस्करी के 65 केस दर्ज किये. वहीं 129 तस्करों को गिरफ्तार किया गया. पिछले दिनों सीआइडी की समीक्षा में यह बात सामने आयी थी. सबसे कम मामले गोड़्डा जिले से देखने को मिले हैं. सबसे ज्यादा गो तस्करी के मामले में गुमला जिला दूसरे स्थान पर है.

Share this...
Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *