पंचायत प्रतिनिधि करेंगे ग्रामीणों को बिचौलियों के दलदल से बाहर निकालने की पहल

सरायकेला। गांव से शहर तक कोई भी विभागीय कार्य हो या सरकारी जनहितकारी योजनाओं में भागीदारी, ऐसे सभी कामों में बिचौलियों की सख्त पकड़ बनी हुई है. अनेक लाभुक इनके मकड़जाल में फंस कर योजनाओं के सही लाभ से वंचित रह जाते हैं. लेकिन अब सरकार द्वारा संचालित जनहितकारी योजनाओं का सुगमता से सही लाभ दिलाने के लिये पंचायत प्रतिनिधि सक्रिय होंगे. इस संबंध में जिला परिषद अध्यक्ष सोनाराम बोदरा ने बताया कि सरकारी योजनाओं का सही लाभ समाज के अंतिम पायदान पर खड़े लाभुकों तक पहुंचाने में सहयोग करना हमलोगों का दायित्व है. क्षेत्रवार सभी मुखिया अन्य प्रतिनिधियों के साथ ताल-मेल स्थापित कर कार्य करेंगे तो किसी के समक्ष समस्या नहीं रहेगी. उन्होंने कहा कि लाभुक क्षेत्रवार अपने मुखिया, वार्ड मेंबर या जिला परिषद सदस्य के समक्ष अपनी समस्या रखें या योजना का लाभ लेने हेतु संपर्क करें. उन्हें गलत इंसान के बहकावे में समय और पैसा बर्बाद नहीं करना चाहिए.

बैंको में लोन व केसीसी बनवाने के नाम पर भी वसूली जाने लगी है मोटी रकम 

ग्रामीण क्षेत्र में इस कदर बिचौलियों का बोलबाला चलता है कि आधार कार्ड, जन्म या मृत्यु प्रमाण पत्र, आवास योजना सहित अन्य सभी योजनाओं में लाभुकों को ये अपने कब्जे में ले लेते हैं. लाभुक से कार्यालय में खर्च व प्रज्ञा केंद्र में खर्च के नाम पर पैसे भी लिये जाते हैं. चर्चा तो यह भी है कि बैंको में लोन एवं केसीसी बनवाने के नाम पर भी मोटी रकम वसूली जाने लगी है. केसीसी लेने वालों को यह कह कर भी गुमराह किया जाता है कि यह खेती के लिए लोन है. इसको वापस करने की जरूरत नहीं है, सरकार माफ कर देगी. इस प्रकार के बिचौलिए हर क्षेत्र में हावी हैं. ऐसे में अगर पंचायत प्रतिनिधि सक्रिय होंगे तो निश्चित ही आम जरूरतमंद बिचौलियों के मकड़जाल से मुक्त होंगे.

Share this...
Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *