केंद्र सरकार झारखंड में सरकार गिराने में जुटी हुई है : केजरीवाल

रांची। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को विधानसभा में विश्वासमत प्रस्ताव पेश किया. प्रस्ताव से पहले भाजपा विधायकों ने सीवर-पानी और भ्रष्टाचार पर चर्चा कराने की मांग की, जिसके बाद सभी विधायकों को पूरे दिन के लिए सदन से मार्शल आउट कर दिया गया. दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया के घर सीबीआई छापे और आप विधायकों के भाजपा के संपर्क में होने की खबरों के बीच केजरीवाल ने विश्वासमत प्रस्ताव लाया है. सीएम केजरीवाल ने कहा कि हमारा कोई विधायक नहीं बिका, दिल्ली में भाजपा की कोशिश फेल हो गयी. मुख्यमंत्री ने दावा किया कि झारखंड में सरकार गिराने के कार्य में केंद्र सरकार जुटी हुई है और वह सरकार गिराने के लिए डीजल-पेट्रोल के दाम बढ़ाकर पैसे का इंतजाम करेगी. 

बीजेपी का था 800 करोड़ रुपये का बजट : केजरीवाल

विश्वास मत प्रस्ताव पेश करते हुए सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा- बीजेपी ने दिल्ली के विधायकों को खरीदने के लिए 20-20 करोड़ रुपये का ऑफर दिया था और इसके लिए 800 करोड़ रुपये का बजट रखा गया था, लेकिन इसमें सफलता नहीं मिल पाई. उन्होंने (भाजपा ने) मणिपुर, बिहार, असम, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र में सरकारें गिराईं, कुछ जगह पर उन्होंने 50 करोड़ रुपये भी दिए. उन्होंने कहा कि भाजपा ने कई राज्यों की सरकार गिरा दी, ये सरकारें कैसे गिरी, यह एक रोचक तथ्य है.

हंगामा करने सदन में आते हैं भाजपा विधायक : केजरीवाल

इस दौरान मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भाजपा विधायकों के रवैए की कड़ी निंदा की. उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा विधायक चर्चा करना नहीं चाहते, वह केवल हंगामा करने की नीयत से सदन में आते हैं. इसी कारण उन्हें सदन से बाहर निकाला गया. मुख्यमंत्री ने कहा- आज देश में महंगाई चरम पर है, लोगों के घरों में खाना बनाना मुश्किल हो गया है. केंद्र सरकार ने हर मामले में टैक्स लगा दिया है. इतना टैक्स कभी भी नहीं लगा था. देश आजाद होने के बाद कभी भी दूध, दही, अनाज, दाल, चावल, चीनी पर टैक्स नहीं लगा था. अंग्रेजों ने भी कभी यह टैक्स नहीं लगाए.

भाजपा का ऑपरेशन लोटस हुआ फेल’

केजरीवाल ने कहा कि आम आदमी पार्टी के विधायक ईमानदार हैं, इसलिए एक भी विधायक नहीं बिका. भाजपा का ऑपरेशन लोटस दिल्ली में फेल हो गया. जनता को विश्वास दिलाने और उसे बताने के लिए कि हमारा एक भी विधायक नहीं बिका और भाजपा खरीदने में कामयाब नहीं हो सकी, इसी कारण हम विश्वास प्रस्ताव लेकर आए हैं.

केजरीवाल ने कहा कि पिछले दिनों संसद में केंद्र सरकार ने खुद माना है कि 10,000 लाख करोड़ कर्जा पूंजीपतियों का माफ किया गया है. किसान कर्ज से परेशान हैं, वह दर-दर की ठोकरे खा रहे हैं. मगर उनका कर्जा माफ नहीं किया जा रहा है. उनकी उनकी जमीन की कुर्की की जा रही है. इसी तरह छात्रों का भी कर्जा माफ नहीं किया जा रहा और कर्जा नहीं देने पर छात्रों के पिता की कृषि भूमि को गिरवी रख रहे हैं.

उपराज्यपाल पर लगाया आरोप

आप विधायक दुर्गेश पाठक ने उपराज्यपाल पर खादी ग्राम उद्योग के अध्यक्ष होने के दौरान 14 सौ करोड रुपए का घोटाला करने का आरोप लगाया. उन्होंने इस मामले की सीबीआई जांच की मांग की. सदन में उनके संबोधन के बाद आम आदमी पार्टी के तमाम विधायकों ने विधानसभा में हंगामा करते हुए दुर्गेश पाठक के कथन का समर्थन किया. आप विधायकों के शांत नहीं होने पर राखी बिड़ला ने सदन की बैठक आधा घंटा के लिए स्थगित कर दी.

उपराज्यपाल को गिरफ्तार करने की मांग

विधानसभा की कार्रवाई दोबारा शुरू होते ही आप विधायकों ने नारेबाजी शुरू की. इसके बाद वह सदन के अंदर धरने पर बैठ गए. आप विधायकों ने नारेबाजी करते हुए उपराज्यपाल को बर्खास्त करने के साथ-साथ उन्हें गिरफ्तार करने की मांग की. आप विधायक अतिशी ने कहा कि भाजपा किसी तरह से अरविंद केजरीवाल की सरकार गिराना चाहती है. उसकी साजिश दिल्ली में नाकाम रही है. दिल्ली की जनता भी जानना चाहती है कि जो सरकार दिल्ली में है, क्या वह स्थिर है, क्या वह सरकार बनी हुई है. इसे लेकर ही विश्वास प्रस्ताव लाया गया है.

Share this...
Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *