अंकिता हत्याकांड को लेकर महिला नेताओं में आक्रोश

गिरिडीह। दुमका में 12 कक्षा की छात्रा अंकिता हत्याकांड से गिरिडीह के महिला नेताओं में आकोश है. विभिन्न दलों की इन महिला नेताओं ने हत्यारों को कठोर सजा देने की मांग की है.

जेएमएम की जिला प्रवक्ता प्रमिला मेहरा का कहना है कि पेट्रोल छिड़ककर अंकिता को जिंदा जला देना जघन्य अपराध है. एकतरफा प्यार में ऐसा हरकत करने वालों के लिए समाज में स्थान नहीं है. हत्यारों को गिरफ्तार कर जेल भेजने के बजाए चौराहे पर सरेआम गोली मार देना चाहिए. इस तरह के अपराध पर रोकथाम के लिए कड़ा कानून बनना चाहिए.

बीजेपी नेता शालिनी बेशिख्यार का कहना है कि हेमंत सोरेन सरकार के कार्यकाल में महिलाएं असुरक्षित हैं. आए दिन बलात्कार और हत्या की घटनाएं हो रही है. दुमका में अंकिता पेट्रोल डालकर जिंदा जला डाली गई. इस घटना की जितनी भी निंदा की जाए कम होगी. अंकिता के हत्यारों को कड़ी से कड़ी सजा मिलनी चाहिए. महिलाओं पर बढ़ रहे जुल्म के खिलाफ अब महिलाओं को सड़क पर उतरने की जरूरत है.

एपवा की राष्ट्रीय कार्यसमिति सदस्य जयंती चौधरी का कहना है कि अंकिता की जघन्य हत्या हुई है. हत्यारों को कड़ी सजा मिलनी चाहिए. इस हत्याकांड में पुलिस प्रशासन की लापरवाही उजागर हुई है. देश में छात्राओं पर हमले बढ़े हैं. इस पर रोक लगाने की जरूरत है. राज्य सरकार इस हत्याकांड को गंभीरता से लेकर दोषियों पर कार्रवाई करे.

कांग्रेस नेता डॉ. मंजू का कहना है कि अंकिता की जघन्य हत्या से स्तब्ध हूं. हत्यारों को कड़ी सजा मिलनी चाहिए.

जिला परिषद् सदस्य प्रमिला देवी का कहना है कि अंकिता हत्याकांड ने पूरे देश को झकझोर कर रख दिया है. हत्यारों को फांसी की सजा मिलनी चाहिए, जिससे इस तरह की घटना दुबारा न घटे.

Share this...
Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *