अलका लांबा – राष्ट्रवाद की आड़ में देश के साथ घिनौना-खेल खेल रही भाजपा, आतंकवादियों के साथ है नाता

रांची। दो दिन के दौरे पर रांची आयी कांग्रेस की राष्ट्रीय प्रवक्ता अलका लांबा ने शनिवार को भाजपा पर बड़ा हमला किया. उन्होंने कहा कि राष्ट्रवाद की आड़ में देश के साथ घिनौना खेल खेल रही भाजपा का आतंकवादियों के साथ नाता है. आज जिस तरह से एक के बाद एक घटनाओं में लगातार आतंकियों तथा अपराधियों के तार भाजपा से जुड़े मिले हैं, उससे समझना होगा. अलका लांबा आज पार्टी मुख्यालय में मीडिया से बात कर रही थी. इस दौरान प्रदेश अध्यक्ष राजेश ठाकुर समेत कई कांग्रेसी मौजूद थे.

आतंकवादियों के साथ भाजपा के संबंध में कई तर्क किए प्रस्तुत –

  1. पिछले दिनों उदयपुर में कन्हैया लाल की हत्या में शामिल एक आरोपी मोहम्मद रियाज अंसारी भाजपा का कार्यकर्ता निकला. इसने बाकायदा भाजपा के नेताओं की उपस्थिति में पार्टी की सदस्यता ली थी.
  2. जम्मू-कश्मीर में ग्रामीणों द्वारा पकड़े गए लश्कर-ए-तैयबा के दो आतंकवादियों में से एक तालिब हुसैन शाह भाजपा का पदाधिकारी निकला. इसका देश के गृह मंत्री अमित शाह के साथ भी तस्वीर है.
  3. महाराष्ट्र के अमरावती में केमिस्ट उमेश कोल्हे की हत्या के कथित मास्टरमाइंड इरफान खान का निर्दलीय सांसद नवनीत राणा और उनके पति रवि राणा से संबंध हैं. राणा दंपति का भाजपा से क्या रिश्ता है ये किसी से छिपा नहीं है.
  4. 2020 में जम्मू कश्मीर में आतंकियों को हथियार मुहैया कराने के आरोप में भाजपा के पूर्व नेता एवं सरपंच तारिक़ अहमद मीर को गिरफ्तार किया गया था. तारिक़ अहमद पर हिजबुल कमांडर नवेद बाबू को हथियार देने का आरोप था जो आतंकियों की मदद करने वाले डीएसपी दविंदर सिंह के साथ गिरफ्तार हुआ था. एनआईए ने साफ तौर पर कहा भी था कि तारिक़ अहमद मीर दविंदर सिंह का सहयोगी है.
  5. 2017 में मध्यप्रदेश में एटीएस की टीम ने अवैध टेलीफोन एक्सचेंज का पर्दाफाश करते हुए जिन 11 संदिग्धों को गिरफ्तार किया,  इसमें एक भाजपा आईटी सेल का सदस्य ध्रुव सक्सेना भी था.

सत्ता के लिए अपराध सिद्ध आतंकवादी को टिकट भी दे चुकी है भाजपा

उन्होंने कहा कि भाजपा सत्ता के लिए अपराध सिद्ध आतंकवादी को भी टिकट देने से नहीं चुकी है. इसी भारतीय जनता पार्टी ने मसूद अजहर के शागिर्द मोहम्मद फारुख खान को स्थानीय चुनाव में श्रीनगर के वार्ड नंबर 33 से टिकट दिया था, जो जम्मू कश्मीर लिबरेशन फ्रंट एवं हरकत उल मुजाहिदीन का सदस्य रह चुका है. पुलवामा में जहां परिंदा भी पर नहीं मार सकता था, वहां 300 किलो आरडीएक्स कैसे पहुंचा, इसका जवाब अभी तक देश को नहीं मिला है.

Share this...
Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *