ट्रिपल मर्डर का खुलासा, सुंदर ने नहीं रामचंद्र ने की थी हत्या

जमशेदपुर। जमशेदपुर के गोलमुरी थाना अंतर्गत पुलिस लाइन के स्टाफ क्वार्टर संख्या एलएसजी जे5 में महिला पुलिस कर्मी सविता रानी, उसकी मां लखिया मुर्मू और बेटी गीता की हत्या सुंदर टुडू ने नहीं बल्कि एसएसपी के चालक रामचंद्र सिंह जामुदा ने की थी. पुलिस ने इसका खुलासा कर दिया है. पुलिस ने रामचंद्र की निशानदेही में घटना में प्रयुक्त लोहे का रॉड और घटना के समय पहना हुआ कपड़ा बरामद किया है. रामचंद्र ने प्रेम प्रसंग में घटना को अंजाम दिया है. जानकारी देते हुए एसएसपी प्रभात कुमार ने बताया कि सविता और रामचंद्र के बीच 2016 से परिचित थे. रामचंद्र को दो माह यह लगता था कि सविता किसी और के साथ संबंध में थी इस कारण दोनो के बीच मनमुटाव था. 19 जुलाई की रात को उसने रात 12 बजे से 1 बजे के बीच घटना को अंजाम दिया और कमरे में ताला लगाकर चला गया था.

ये है मामला

गुरुवार देर बाद रात पुलिस लाइन के क्वार्टर नंबर एलएसजी जे5 निवासी महिला पुलिसकर्मी सविता रानी, उसकी मां लखिया मुर्मू और बेटी गीता का शव बरामद किया गया था. कमरे से बदबू आने पर पड़ोसियों ने इसकी जानकारी वरीय अधिकारियों को दी थी. जिसके बाद कमरे का दरवाजा तोड़ा गया. तीनों की हत्या गला घोंटने के बाद धारदार हथियार से वार कर किया गया था. जांच के लिए पुलिस ने डॉग स्क्वायड और फोरेंसिक का भी सहारा लिया था.

Share this...
Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *