टंडवा थाना पुलिस पर अपहरण के जगह गुमशुदगी का मामला दर्ज करने का आरोप, एसपी ने दिए जांच के आदेश

चतरा। पुलिसिंग को लेकर चाहे कितने भी दावे किए जाएं, लेकिन पुलिस विभाग के कई अधिकारियों की कार्यशैली अपने ढर्रे पर कायम है. टंड़वा थाना की पुलिस पर एक पीड़ित व्यक्ति ने गंभीर आरोप लगाया है. पीड़ित परिवार का आरोप है कि पुलिस अपहरण का प्राथमिकी दर्ज करने के बजाए गुमशुदगी का मामला के लिए दबाव बनाया. मामला एक महिला के अपहरण से जुड़ा है. मामले को लेकर परिजनों ने चतरा एसपी क़ो लिखित शिकायत बीते सोमवार को किया है. परिजनों का आरोप है कि टंडवा थाना आरोपियों से मिला हुआ हैं. मामला अपहरण का हैं और जबरदस्ती गुमशुदगी का मामला दर्ज कराया गया हैं. मामले को लेकर जब टंडवा थाना प्रभारी से संपर्क कर पूछा गया कि क्या मामले में प्राथमिकी दर्ज की गयी है. तो उन्होंने कहा कि प्राथमिकी दर्ज हुई कि नही यह जानकारी नही है. अभी एक मीटिंग में है और फोन काट दिया.

चतरा एसपी राकेश रंजन ने बताया कि मामले को लेकर परिजन के माध्यम से जानकारी मिली है. टंडवा एसडीपीओ को जांच का आदेश दिया गया है. जांच रिपोर्ट मिलने के बाद आवश्यक कार्रवाई की जायेगी.

क्या है मामला

टंडवा थाना क्षेत्र के उलातु निवासी राजकुमार राय ने एसपी को दिए आवेदन में बताया है कि बीते गुरुवार की रात स्कार्पियों से चार-पांच लोग घर पहुंचकर दरवाजा खटखटाया. अंदर से जब राजकुमार ने पूछा तो अपने को पुलिस बताया. दरवाजा खोलते ही आरोपी राजकुमार के कनपटी में पिस्टल सटाकर बहन मालती देवी को सोये हालत में उठाकर ले जाने लगा. सभी आरोपी के मुंह कपड़े से ढंके थे. मालती देवी जब चिल्लाने लगी तो हाथ से मुंह को बंद कर दिया और पूरे परिवार को जान से मारने की धमकी दी गई. जबरन गाड़ी पर बैठाने लगा.

Share this...
Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *