दुर्व्यापार रोकना समाज के प्रत्येक व्यक्ति की जिम्मेवारी : उपायुक्त

लोहरदगा । बाल शोषण की बुनियाद समाज से ही होती है। वैसे बच्चे जिनके माता-पिता इस दुनिया में नहीं हैं, अगर हैं तो रोजी-रोटी के लिए किसी दूसरे जगह रहते हैं या जाते हैं, वैसे बच्चों के अक्सर यौन शोषण या दुर्व्यापार की घटनाएं होती हैं। इन घटनाओं को रोकना समाज के प्रत्येक व्यक्ति की जिम्मेवारी है। इस सामाजिक बुराई को हमें एकजुट होकर सामूहिक रूप से समाप्त करना होगा। उक्त बातें उपायुक्त दिलीप कुमार टोप्पो ने नया नगर भवन, लोहरदगा में आयोजित “जनसंवाद” कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि कही। यह कार्यक्रम कैलाश सत्यार्थी चिल्ड्रेन फाउंडेशन, जस्टिस एवरी चाईल्ड और एलजीएसएस द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित किया गया।

उपायुक्त ने कहा कि सामाजिक बुराई के शिकार बच्चों की पढ़ाई छूटती है, समाज छूटता है। जिला प्रशासन की ओर से ऐसे बच्चों को मुआवजा दिया जाता है। हमें जुर्म करने वाले व्यक्तियों से सख्ती से निपटने की आवश्यकता है ताकि फिर कोई जुर्म ना हो। हमें बचपन को गुलामी से बचाना है।

पलायन छोड़ें, जिला में करें काम

उपायुक्त ने कहा कि इस जिले में दूसरे राज्य में जाकर जीवकोपार्जन करने का चलन है। इससे कई तरह की परेशानियां परिवार को झेलनी पड़ती हैं। बच्चे कई तरह के असुरक्षित हो जाते हैं। लोग पलायन छोड़ इसी जिले में अपना काम करें। कई ऐसी योजनाओं से जिससे सरकार जोड़ने का प्रयास कर रही है। कई योजनाएं संचालित हैं। लोग इसका लाभ लें।

समर्थ आवासीय विद्यालय में शुरू होगी पढ़ाई

वैसे बच्चे जो नक्सल प्रभावित क्षेत्र से हैं, जिनके माता-पिता बच्चों को बेहतर शिक्षा दिला पाने में असमर्थ हैं, जो अनाथ बच्चे हैं, उनके लिए बेहतर शिक्षा की व्यवस्था जिले में की गई है। हिरही में निर्मित समर्थ आवासीय विद्यालय में जल्द ही शैक्षणिक सत्र प्रारंभ किया जायेगा। इसके अतिरिक्त कस्तूरबा आवासीय विद्यालयों में भी पीडिता के लिए पढ़ाई की व्यवस्था करायी जायेगी।

पुलिस को दें त्वरित सूचना : अखौरी शशांक सिन्हा

उप विकास आयुक्त अखौरी शशांक सिन्हा ने कहा कि सभी लोगों को अपना कर्तव्य निभाने की जरूरत है। बाल शोषण, मानव व्यापार या अन्य कोई भी अपराध की सूचना त्वरित रूप से पुलिस को दें ताकि कोई भी कार्रवाई करने में देरी नहीं हो। हमें ऐसे अपराध को रोकना है, स्वस्थ समाज की अवधारणा बनाना है।

चाईल्ड ट्रैफिकिंग की रिपोर्टिंग कम : आरती माला

डालसा सचिव आरती माला ने कहा कि जिले में अब भी ट्रेफिकिंग के मामले हैं लेकिन उनकी रिपोर्टिंग कम हो रही है। सेन्हा और कुडू में अधिक मामले हैं। हम सभी का कर्तव्य है ऐसे मामलों की जानकारी नजदीकी थानों को दें। अपने बच्चों का ख्याल रखें। हमेशा सक्रिय रहें ताकि बच्चों के साथ किसी प्रकार की अनहोनी ना हो। सरकार बेहतर कार्य कर रही है, उन योजनाओं का लाभ उठायें। डालसा द्वारा लोगों को विधिक शिविर में उनके अधिकारों की जानकारी दिये जाने का कार्य निरंतर किया जा रहा है।

सखी वन स्टॉप सेंटर में एक छत के नीचे मिल रही सभी सुविधाएं : मनीषा तिर्की

जिला समाज कल्याण पदाधिकारी ने कहा कि जिला में लोहरदगा महिला थाना क्षेत्र परिसर में सखी वन स्टॉप सेंटर भवन बनाया गया है। इसमें किसी भी महिला के साथ अगर किसी प्रकार का शोषण हुआ है, किसी प्रकार के हिंसा की शिकार हुई है, तो उस महिला को पुलिस सहायकता, विधिक सहायता और पांच दिन के आवासन की सुविधा दी जा रही है। पीड़िता को पूरा सहयोग दिया जा रहा है।

आज के कार्यक्रम में सांसद प्रतिनिधि चंद्रशेखर अग्रवाल, बाल कल्याण समिति के अध्यक्ष लक्ष्मीकांत प्रसाद, बाल संरक्षण पदाधिकारी वीरेंद्र कुमार, कैलाश सत्यार्थी चिल्ड्रेन फाउण्डेशन की स्टेट प्रोग्राम मैनेजर निपा दास, होप संस्था की सचिवमनोरमा एक्का, एलजीएसएस के सचिव सीपी यादव ने अपने विचार व्यक्त किये।

Share this...
Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter

Leave a Comment

Your email address will not be published.