ईश्वर से आत्मिक मिलन व इष्ट को याद करने का माध्यम है भजन कीर्तन एवम सत्संग: जिप सदस्य रामलखन प्रसाद

सेन्हा /लोहरदगा। सेन्हा प्रखण्ड के तोड़ार पंचायत के सेठियो ग्राम अवस्थित देवी मंदिर प्रांगण में कल मंगलवार को रात्रि 7.30 बजे से भजन कीर्तन व भंडारे का आयोजन विश्व हिंदू परिषद व बजरंग दल तोड़ार पंचायत समिति के सौजन्य से किया गया।
जिसमें विश्व हिंदू परिषद व बजरंग दल पंचायत समिति के पदाधिकारियों मे अध्यक्ष रवि साहू, उपाध्यक्ष मुकेश सिंह उर्फ पप्पू सिंह,अमर महतो,विजय कुमार साहू, मंत्री वीरेंद्र साहू, संरक्षक प्रमोद कुमार सिंह, रंजित महली समेत अन्य पदाधिकारी व सदस्यों के साथ साथ विश्व हिंदू परिषद के जिला मंत्री रितेश कुमार, सह मंत्री विनोद उराँव उर्फ गुड्डू, धर्म प्रसार प्रमुख बाबा सतीश पाण्डेय, अखाड़ा प्रमुख रोहित साहू, सेन्हा प्रखंड अध्यक्ष रंजीत कुमार साहू, बजरंग दल ज़िला संयोजक विपुल कुमार, सह संयोजक सचिन कुमार, पूर्व संयोजक चन्दन गोयल, सदस्य प्रत्युष साहू उर्फ ढेलू जी, सत्यम कुमार, अंकुर शर्मा इत्यादि उपस्थित रहें व भजन कीर्तन के साथ साथ भण्डारे का भी आनन्द लियें।
इस दौरान कार्यक्रम मे उपस्थित सेन्हा प्रखण्ड ज़िप सदस्य रामलखन प्रसाद जी ने अपना उदभोदन में कहा कि मन्दिरों व देवालयों में भजन कीर्तन होना उतना ही ज़रूरी है जैसे प्राणियों को सांस लेना। अपने मन मे धर्म को जगाये व बनाये रखने के लिये सबसे सुंदर पल होता है भजन कीर्तन का पल। भजन कीर्तन द्वारा भगवान के सत्संग में भक्त का ईश्वर से आत्मिक मिलन होता है, भक्त इसी बहाने अपने इष्ट को याद कर उसमें कुछ पल के लिये ईश्वरीय माहौल में लीन हो जाते हैं। जबकि विहिप् ज़िला मंत्री रितेश कुमार ने अपने सम्बोधन में कहा कि भजन कीर्तन का दूसरा नाम मिलन व सत्संग है, जिसके माध्यम से सनातनों का चौपाल में एक दूसरे से मिलने का सौभाग्य प्राप्त होता है। जिससे आपसी प्रेम भाव बढ़ने के साथ साथ एकता भी बरकरार रहती है। ऐसा कार्यक्रम निरन्तर होते रहने से ही सनातन धर्म व समाज का उत्थान सुनिश्चित किया जा सकता है।
आने वाली पीढ़ियों में संस्कार और संस्कृति बचा रहे उसके लिये भी अपने परम्पराओं को जीवित रखना व धरोहर के रूप मे आगे बढ़ाने हेतु प्रत्येक मन्दिरों में घण्टे का बजना व चौपाल में भजन कीर्तन होना अतिआवश्यक है।

Share this...
Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter

Leave a Comment

Your email address will not be published.