टीबी जांच के उपरांत पुष्टि होने पर दवा का करें सेवन सुधीर कुमार राय

सेन्हा/लोहरदगा। झारखंड सरकार के तत्वधान में स्वस्थ्य विभाग के निर्देश पर टीबी बीमारी को जड़ से मिटाने पर दिया जा रहा जोर जिसके तहत सेन्हा प्रखंड क्षेत्र में टीबी को जड़ से मिटाने के लिए जिला यक्ष्मा विभाग के सहयोग से पीरामल स्वास्थ टीबी के सक्रिय मरीजों की पहचान करने में लगातार कार्य चल रहा है। साथ ही बीमारियों को जड़ से मिटाने को लेकर गांव गांव में जानकारियां भी दी जा रही है। सरकार के निर्देशानुसार टीबी मरीजो का खोज के लिये 100 दिन 100 गाँव कार्यक्रम के तहत एसीएफ कैंपेन के द्वारा संभावित टीबी मरीजों की पहचान पीरामल स्वास्थ्य द्वारा घर घर जाकर किया जा रहा है। इसी क्रम में जिला के सेन्हा प्रखंड अन्तर्गत बरही एवं सिठियो गाँव में कम्यूनिटी मोबिलाईजर ममता कुमारी एवं हेल्थ स्पोर्ट एसोसिएट इंदु टिग्गा के द्वारा 10 संभावित टीबी मरीजों का स्क्रिनिंग कर सैंपल लिया गया। वहीं सेन्हा गाँव में 10 स्पूटम कप का वितरण किया गया। इस दौरान जिला टीबी कोर्डिनेटर सुधीर कुमार राय ने टीबी के बारे में बताया कि यह एक संचारी रोग है। जो एक से दूसरे व्यक्ति में ड्रॉपलेट के जरिये आसानी से फैलता है। साथ ही बताया गया। कि टीबी का लक्षण दिखाई देने पर बलगम जांच करवा करवाएं और जांच में टीबी की पुष्टि हो जाती है। तो दवा का सेवन शुरू कर दें। टीबी का इलाज सम्भव है। जो सरकार द्वारा बिल्कुल मुफ्त में इलाज किया जाता है। सहित टीबी को लेकर विस्तार पूर्वक जानकारी डोर टू डोर सर्वे के दौरान ग्रामीणों को बताया गया।

Share this...
Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter

Leave a Comment

Your email address will not be published.