एनएच सड़क के अंतर्गत सड़क का चौड़ीकरण व नाली निर्माण कार्य में बरती जा रही है गंभीर अनियमितता

लोहरदगा। कुडू से घाघरा तक बन रही एनएच सड़क के अंतर्गत सड़क का चौड़ीकरण व नाली निर्माण कार्य में गंभीर अनियमितता बरती जा रही है। निर्माण कार्य के संवेदक के द्वारा निर्माण शर्तो के अनुरूप कार्य नहीं कराया जा रहा है। नाली निर्माण में लगाया गया मैटेरियल की गुणवत्ता पर ध्यान नहीं दिया जा रहा है। नाली निर्माण के लिए जिस तरह के मैटेरियल का उपयोग किया जाना चाहिए वैसा नहीं कराया जा रहा है। इस बात की शिकायत पर झामुमो जिलाध्यक्ष मोज्जम्मिल अहमद ने वस्तु स्थिति का जायजा लेने के लिए नाली निर्माण कार्य का जायजा लिया। उन्होंने मौके पर लोगो से जानकारी भी प्राप्त किया। नाली निर्माण में बरती जा रही गंभीर अनियमितता पर उन्होंने नाली निर्माण करा रहे ठेकेदार को खरी खोटी सुनाई और गुणवत्तापूर्ण कार्य करने की हिदायत दी। इस संदर्भ में झामुमो जिलाध्यक्ष मोज़म्मिल अहमद ने बताया कि नाली निर्माण में गंभीर अनियमितता बरती जा रही है। यह एनएच के द्वारा सड़क व नाली निर्माण कराया जा रहा है। जो बहुत ही महत्वपूर्ण है। इस कार्य मे लापरवाही बरतने से सड़क व नाली निर्माण की गुणवत्ता खराब हो रही है जो झामुमो कभी बर्दाश्त नहीं करेगी। उन्होंने इसकी शिकायत जिला के उपायुक्त व राज्य के मुख्यमंत्री से करने की बात कही है। उन्होंने कहा कि नाली निर्माण में निर्धारित दूरी से ज्यादा दूरी पर छड़ो को बांधा जा रहा है। जिससे जल्द ही इसके खराब होने की आशंका है। वही बरवाटोली चौक से लेकर एवीएम मार्ट तक नाली निर्माण कराया गया है जिसमे नाली निर्माण के बाद उसे खुला ही छोड़ दिया गया है। बरवाटोली चौक पर छोटे बड़े वाहनों से लेकर कई भारी वाहनों का इस सड़क से गुजरना पड़ता है। इस सड़क के दोनों किनारे पर नाली निर्माण कराया जा रहा है। नाली निर्माण में दो छड़ो के बीच की दूरी निर्धारित दूरी से ज्यादा है जो इसकी गुणवत्ता को सहज ही बता रही है। नाली में पानी होने के बावजूद उसमे नाली निर्माण कराया गया है। जिससे नाली कितनी दिनों तक टिकेगी इसका भी सहज अनुमान लगाया जा सकता है। वही नालियों पर बिना स्लैब डाले ही खुला छोड़ दिया गया है जो कि सड़क हादसों को आमंत्रित कर रहा है। वही कस्तूरबा स्कूल के निकट भी कुछ इसी तरह का वाक्य देखने को मिला है। यहाँ भी नाली निर्माण कार्य कराया जा रहा है लेकिन गुणवत्ता का ख्याल नही रखा जा रहा है। ठेकेदार से बात करने की कोशिश की गई तो कोई इसपर बोलने को तैयार नहीं था। जिससे इसके गुणवत्ता पर प्रश्नचिन्ह लगना स्वावभाविक है।

Share this...
Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter

Leave a Comment

Your email address will not be published.